UP akhilesh yadav and yogi

सिर्फ योगी ही नहीं, मायावती और अखिलेश की सरकार ने भी बदला था प्रदेश के कई शहरों के नाम

84

लखनऊ। इन दिनों प्रदेश के कई शहरों के नाम बदलने का सिलसिला जारी है। बीते दिनों योगी सरकार ने इलाहाबाद का नाम बदल कर प्रयागराज करने का फैसला लिया था। उसके बाद योगी सरकार ने फैजाबाद जनपथ का नाम बदलकर अयोध्या रखने का फैसला जारी किया।

यूपी के राजनीति में नाम बदलना हमेशा से ही महत्वपूर्ण रहा है। CM योगी ने इन दिनों लगतार कई प्रदेश के नाम बदले। ऐसे में उनपर कई लोगों ने कड़ी आलोचना भी की। 

ऐसा पहली बार नहीं है कि केवल योगी सरकार ने ही यह फैलसा लिया है। इससे पहले भी यूपी के कई पूर्व CM ने भी प्रदेश के कई शहरों का नाम बदल चुके है। फिर चाहे वो मायावती की सरकार रही हो या समाजवादी पार्टी की।

आपको बताते चले कि जब 2012 में प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार बनी तो उन्होंने पूर्व मायावती सरकार के कई फैसलों को बदल दिया था। जिसमें अखिलेश सरकार ने मायावती सरकार के बदले शहरों का नामों में परिवर्तन कर दिया।

मायावती सरकार द्वारा रखे गये इन शहरों के नामों को अखिलेश सरकार ने बदल दिया-

महामाया नगर – हाथरस
काशीराम नगर – कासगंज
प्रबुद्धनगर – शामली
पंचशील नगर – हापुड़
भीमनगर – बहजोई
ज्योतिबाफूले नगर – अमरोहा
रमाबाई नगर – कानपुर देहात छत्रपति
शाहूजी महाराज नगर – गौरीगंज

इसके आलावा यूपी में 1997 से 2012 के बीच 15 सालों में इस शहर का नाम 6 बार बदला जा चुका है। बता दें, जब मायावती 1997 में दूसरी बार सत्ता में आई तो उन्होंने हाथरस शहर का नाम महामायानगर कर दिया। मगर जब प्रदेश में दोबारा कल्याण सिंह का शासन आया तो उन्होंने दोबारा से हाथरस नाम कर दिया।

लेकिन अब 2002 में प्रदेश में मायावती फिर CM बनी तो उन्होंने फिर से हाथरस शहर का नाम महामायानगर कर दिया। वहीं जब 2006 में  मुलायम सिंह की सरकार ने महामायानगर को हाथरस कर दिया। फिर जब मायावती ने 2007 CM  बनी तो उन्होंने मुलायम सरकार के फैसले को बदलते हुए शहरों के नामों को बदल दिया।