आरके नगर उपचुनाव: नोटा से भी कम वोट मिले भाजपा उम्मीदवार को

NOTA
Janmanchnews.com
Share this news...

भाजपा उम्मीदवार को 1417 मत मिले जबकि नोटा को 2373 वोट… तमिलनाडु से मोदी लहर अभी दूर नजर आती है…

Shabab Khan
शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

चेन्नई: एआईएडीएमके से अलग किये गये नेता टीटीवी दिनकरन ने आर.के. नगर उपचुनाव को 40,000 से अधिक वोटों के अंतर से जीतकर सारे रिकार्ड तोड़ दिए है।

चेन्नई में क्वीन मैरी कॉलेज में गिनती की शुरुआत के बाद से ही दिनकरन ने अपने नजदीकी दावेदारों पर एक स्थिर बढ़त कायम रखा।

जयललिता की मृत्यु के एक साल बाद, तमिलनाडु विधानसभा में जिस निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व उन्होने किया था, अतत: 21 दिसंबर को उसे दिनकरन नें अपने कब्जे में ले लिया। दिनकरन की रिकार्डतोड़ जीत का अालम यह था कि उन्होने सभी 58 अन्य उम्मीदवारों को मिले कुल वोटो की तुलना में अधिक वोट प्राप्त किए हैं और जयललिता के जीतने के मार्जिन को 1,162 मत से पार कर दिया है। 2016 में, जयललिता ने 39,545 मतों के अंतर से जीता था।

1% से कम वोट शेयर के साथ, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) आरके नगर उपचुनाव में अपनी छाप छोड़ने में नाकाम रही। एक राष्ट्रीय पार्टी के रुप में भाजपा का प्रदर्शन निराशाजनक रहा। हालात इतने बद्तर थे कि भाजपा के मुकाबले नोटा को अधिक वोट मिले। जिसे लेकर उसके प्रतिद्वंदियों पार्टी की भद् पीटनें में लगे हैं।

भाजपा नें अपने प्रदेश सचिव करू नागराजन को आरके नगर उपचुनाव में अपनें उम्मीदवार के रुप मे उतारा था।

रविवार की शाम को गिनती के 19वें और अंतिम चक्र के बाद नागराजन को केवल 0.80 प्रतिशत वोटों के रुप में कुल 1417 वोट मिले, जबकि उनकी तुलना में नोटा को कुल 2373 वोट मिले। नागराजन गणनास्थल को गिनती के दौरान ही छोड़कर उस समय चले गये जब उन्हे लग गया कि भाजपा निर्दल उम्मीदवार दिनकरन के तूफानी प्रदर्शन के सामने दूर-दूर तक नही नजर नही आ रही।

किसको कितने वोट मिले

दिनकरन(निर्दल) – 89013
एआईएडीएमके – 48306
डीएमके – 24651
नाम थमिलर – 3860
नोटा – 2373
भाजपा – 1417

उप चुनाव परिणामों पर नागराजन ने कहा कि “यह लोकतांत्रिक चुनाव नही था। भाजपा के अलावा हर पार्टी नें नोट के बदले वोट की राजनीति अपनाई थी।”

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।