जेल से रिहाई के बाद लालू की सेवा के लिए जेल पहुंचे सेवक गायब….पुलिस कर रही तलाश

Bihar Police
File Photo: Bihar Police
Share this news...
Pankaj Pandey
पंकज पाण्डेय

पटना। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की होटवार जेल में सेवा करने उनके जेल जाने से पहले पहुंचे सेवादार को लेकर राजनीतिक हलकों में मचे घमासान के बाद पुलिस जांच में मामला सही पाए जाने के बाद सेवकों की रिहाई हुई। जेल से बाहर निकलेने के बाद से सेवक गायब हैं। पुलिस अब उनकी तलाश में लगी है।

इस बात को लेकर हो-हल्ला के बाद पुलिस की जांच में पता चला है कि दोनों सेवादार फर्जी एफआइआर दर्ज करा के 23 दिसंबर से पहले जेल पहुंच गए थे। यह भी पता चला कि दोनों सेवादार कोर्ट के आदेश से जेल में पहुंचे थे। इस मामले में पुलिस पर भी संदेह बढ़ता जा रहा है। पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल उठ रहे है। सवाल यह है कि किस तरह झूठी एफआइआर दायर की गई? जांच क्यों नही हुई? और कैसे वो जेल के भीतर पहुंच गए।

सेवादारों के जेल से बाहर निकलने और गायब हो जाने के बाद चुटकी लेते हुए जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा है कि अब लालू किससे मालिश करवाएंगे? लालू के फर्जीवाड़े का अब पर्दाफाश हो गया है। पहले तो लालू ने गरीब लोगों का जमीन अपने नाम करवा लिया और अब फर्जीवाड़े से सेवादारों को मालिश करवाने के लिए जेल बुला लिया।

ज्ञात हो कि लालू यादव के जेल जाने से पहले उनके दो सेवक एक मामूली मारपीट के मामले में रांची के बिरसा मुंडा जेल पहुंच गए थे। इस मामले का खुलासा होते बिहार की राजनीति गरमा गई है। जदयू ने लालू प्रसाद और उनके परिवार पर दो निर्दोष लोगों को अपराध में धकेलने का आरोप लगाया तो वहीं राजद ने इसपर सफाई दी।

जेल में लालू प्रसाद की सेवा के लिए झूठे एफआरआई पर जेल में पहुंचे सेवकों में मदन रांची का निवासी है और डेयरी का कम करता है। पिछली बार भी रांची जेल में जब लालू यादव बंद थे तब वो ऐसे ही किसी मामले में जेल पहुंच गया था। वहीं लक्ष्मण लालू का ख़ास सेवक है जो उनके खाने से लेकर दवा तक का पूरा ध्यान रखता है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।