Rape victim

जेल में बंद महिला बंदी हुई गर्भवती, ”बाबा” पर लगाया दुष्कर्म का अारोप

29
Hariom Kumar

हरिओम कुमार

फर्रुखाबाद। नवरात्र में जहाँ एक ओर देवियों की पूजा हो रही है वहीं जिला जेल में निरुद्ध एक कुवांरी लड़की को गर्भवती होने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

सवाल उठ रहा है कि लड़की के पैदा होने वाले बच्चे के बाप को क्या नाम दिया जाएगा। यह अभागिन उस पाखंडी बाबा को भूली नहीं है जिसने उसके साथ मुंह काला किया था। पर उसके अपने पापा-मम्मी ने ही उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होने दी। इस अभागिन की जिन्दगी की राह उस समय और मुश्किल में फंस गई जब वह भाई की हत्या में फंसने के बाद जेल भेज दी गयी। 

घटना 29 अगस्त 2017 की है। पीड़िता कृष्णा कुमारी भाई अनुपम कठेरिया उर्फ़ अमन की हत्या के मामले में जेल में बंद है। अनुपम टैक्सी चलाने का काम करता था। वहीं कृष्णा कुमारी गाँव के बाहर सब्जी बेंचने जाती थी जिसका अनुपम विरोध करता था। उस दिन भी भाई-बहन में इसी बात पर विवाद हुआ था और आक्रोश में कृष्णा कुमारी ने अपने भाई के सीने पर चाकू मार दिया जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी। बाद में पिता भूरे की तहरीर पर भाई की गैर इरादतन हत्या के मामले में कृष्णा कुमारी को जेल भेज दिया। जिला जेल में प्रसव पीड़ा की शिकायत पर कृष्णा कुमारी को लोहिया महिला जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कृष्णा कुमारी गर्भवती है और उसका प्रसव काल पूरा हो गया है।

लोहिया अस्पताल में युवती ने बताया कि उसे कभी-कभी दौरे पड़ने की शिकायत थी। उसके पिता उसको पांचाल घाट पर रहने वाले एक ‘बाबा’ के पास इलाज के लिए लेकर गए। बाबा ने युवती पर प्रेत-बाधा बता कर कहा कि लंबी पूजा करनी पड़ेगी। इलाज के लिए युवती को अकेले आश्रम में छोड़ जाने को कहा। इस पर पिता ने युवती को बाबा के पास छोड़ दिया। बाबा ने उसे कोई दवा खिलाकर उसके साथ दुष्कर्म किया।

पीड़िता ने बताया कि बाबा का एक हाथ पंजे के पास से कटा हुआ है। उसने घर आकर पिता को बाबा की हरकत के बारे में जानकारी दी, लेकिन पिता ने उसकी बात पर विश्वास करने के बजाय उसे इलाज पूरा होने तक बाबा के पास जाने की जिद की। वह शिकायत करने के लिए जिलाधिकारी कार्यालय पर गयी पर उसके मम्मी-पापा ने ही पुलिस को यह कह कर कार्रवाई करने से मना कर दिया कि वह ( कृष्णा ) पागल है।