BREAKING NEWS
Search
विद्यालय

‘नई दिशा’ मोबाईल एप के जरिए विद्यालयों की दशा सुधारने की रायबरेली डीएम की कोशिश

0
Share this news...

मगर शिक्षक जिलाधिकारी के मंसूबों पर लगे हैं पानी फेरने में…

Rahul Yadav

राहुल यादव

 

 

 

 

 

रायबरेली (महराजगंज): जहाँ जिले के मुखिया नई दिशा ऐप की शुरुआत कर सरकारी विद्यालयो के शिक्षको को नवाचार से प्रेरित करा, शिक्षालयो की दशा मे सुधार कर पुरस्कृत करने की ओर प्रयासरत हैं वही कुछ विद्यालयो के मनमौजी शिक्षक प्रयत्नशील डीएम की साख पर बट्टा लगाने को कमर कसे हुए है। अब जब विद्यालयो से बिना बताए शिक्षक ही गायब हो तो डीएम साहब करे तो क्या करे ?

बताते चले की जिलाधिकारी संजय खत्री ने जिले मे नई दिशा ऐप की शुरुआत की है जिसमे जिले के परिषदिय विद्यालयो के शिक्षक ऐप को अपने मोबाइल फोन मे डाउनलोड कर विद्यालय की गतिविधियो को अपलोड कर सकते हैं, जिससे उन कार्यो को देख अन्य विद्यालयो के शिक्षक भी प्रेरित होकर अपने अपने विद्यालयो की दशा मे सुधार कर जिले मे शैक्षणिक माहौल तैयार कर सके।

गतिविधियो की देखरेख को जिलाधिकारी ने अधिकारियो की नियुक्तियाँ कर रखी है जिनका काम उन गतिविधियों पर अंक देना रहेगा और महीने के अंत मे सर्वाधिक अंक अर्जन करने वाले विद्यालय का चयन होने पर हौसलाअफजाई स्वरूप प्रशस्ति पत्र आदि की व्यवस्था की गयी है जिससे परिषदीय विद्यालयो मे नवाचार करने की स्पर्धा बनी रहे।

वहीं कुछ विद्यालयो के शिक्षक पुराने ढर्रे पर काम करते हुए कुम्भ्कर्णि नींद मे सोए हुए है।  मामला तहसील क्षेत्र के मोहब्बत नगर मजरे बघेल गाँव स्थित प्राथमिक विद्यालय का है जहाँ कुल नौनिहालों की संख्या 76 है वही मंगलवार दोपहर को मौके पर 06 बच्चे ही उपस्थित रहे। इन बच्चो के पठन पाठन को शासन से प्रधानाध्यापक, सहायक शिक्षक व दो शिक्षा मित्र नियुक्त किये गये है। मौके पर शिक्षा मित्र छोटेलाल ही इन 06 बच्चो को पढ़ाते मिले जबकि बाकी शिक्षक बिना एप्लीकेशन के विद्यालय से नदारद रहे।

ग्रामीणो ने बताया की एक महिला शिक्षा मित्र नाजमा खातून मौजूदा प्रधान की पत्नी है जो की जनप्रतिनिधि का रौब रखते हुए कम ही आती है वही प्रधान अध्यापक मनोज कुमार सिह व सहायक अध्यापक अमित कुमार श्रीवास्तव को तो गाँव के लोग जानते पहचानते तक नही। इनका आना न आने के बराबर ही होता है।

शिक्षा मित्र के भरोसे संचालित प्राथमिक विद्यालय मोहब्बत नगर की दशा जिलाधिकारी के मंसूबों पर पानी फेरने को काफी है वही शिक्षा स्तर को बदहाल करने वाले ऐसे शिक्षको पर सख्त कार्यवाही की जरूरत है । खंड शिक्षा अधिकारी अमावा से बात करने पर उन्होने बताया की काम न करने वाले ऐसे शिक्षको की रिपोर्ट बना कर जिलाधिकारी को दी जाएगी जिससे ब्लाक मे शिक्षा का माहौल तैयार हो सके।

Share this news...