मनसे

राज ठाकरे नें ‘मोदी-मुक्त भारत’ के लिए विपक्षी दलों को एक हो जानें का किया आह्वान

3

शिवाजी पार्क में बोलते हुए उन्होंने कहा, सभी विरोधी दलों को भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए सरकार और “मोदी-मुक्त भारत” को सुनिश्चित करने के लिए एक साथ आना चाहिए…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

 

मुंबई: महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के अध्यक्ष राज ठाकरे ने भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए सरकार पर तीव्र हमले का आगाज करते हुए आज 2019 तक विपक्षी एकता और “मोदी-मुक्त भारत” का आह्वान किया।

मध्य मुंबई के शिवाजी पार्क में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए ठाकरे ने कहा, “देश (प्रधान मंत्री) नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार द्वारा किए गए झूठे वादों से तंग आ गया है।” भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए सरकार से सभी विपक्षी पार्टियों को ‘मोदी-मुक्त भारत’ को सुनिश्चित करने के लिए एक साथ मिलना चाहिए।

उन्होंने भाजपा के ‘कांग्रेस-मुक्त भारत’ नारे को जनता को याद दिलाते हुए कहा कि  “भारत को 1947 में अपनी पहली आजादी मिली, 1977 में दूसरी बार (आपातकाल के बाद हुये चुनाव के बाद, जब इंदिरा गांधी चुनाव हार गई थी) और 2019 में भारत को मोदी-मुक्त बनाने के बाद तीसरी आजादी का मौका मिल सकता है।” कभी भाजपा से कदम ताल मिलाने वाले राज ठाकरे ने आगे कहा कि ‘यदि मोदी सरकार को हटाकर नोटबंदी की जांच का आदेश दिया जाए तो यह (नोट प्रतिबंध) 1947 के बाद से देश का सबसे बड़ा घोटाला बन कर सामने आएगा।

इसरो की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए ठाकरे ने कहा, “भूजल की कमी के चलते महाराष्ट्र का एक बड़े पैमाने पर मरुस्थलीकरण चल रहा है। राजस्थान के बाद, हमारे राज्य में सबसे ज्यादा मरुस्थलीकरण की खबर है।” उन्होंने राज्य में 56,000 कुओं की खुदाई के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के दावों पर सवाल उठाया।

मनसे प्रमुख ने कहा कि वह अयोध्या में राम मंदिर बनाने के पक्ष में हैं, लेकिन इसे चुनाव के मुद्दे के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, “बाबरी मस्जिद विध्वंस का मामला सुप्रीम कोर्ट में है और भाजपा द्वारा जानबूझकर आने वाले दिनों में सांप्रदायिक दंगों को उकसाने के लिए इसे बड़े पैमाने पर उछाला जाएगा।” उन्होंने कहा, “राम मंदिर का निर्माण किया जाना चाहिए, लेकिन इसे समाज को विभाजित करने और वोट हासिल करने के लिए एक चुनावी मुद्दे के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।”

मोदी के विदेश दौरों पर चुटकी लेते हुये, ठाकरे ने कहा कि प्रधान मंत्री जाहिरी तौर पर उन देशों में जाकर “पकौड़ो के लिए आटा” का जुगाड़ कर रहे थे क्योंकि उनकी किसी यात्रा से भारत को कोई फायदा नही हुआ, ना ही कोई विदेशी निवेश हुआ।

मनसे प्रमुख ने कहा कि “शौचालय एक प्रेम कथा” और “पैडमैन” जैसी फिल्में सरकारी योजनाओं का एक गुप्त प्रचार करने वाली फिल्में थी। दोनों फिल्मों में अभिनय करने वाले बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार, “भारत कुमार” के नाम से जाने जाने वाले अभिनेता मनोज कुमार के नक्शे कदम पर चलने का प्रयास कर रहे हैं। “जबकि अक्षय कुमार एक भारतीय नागरिक भी नहीं हैं। उनके पास कनाडाई पासपोर्ट है और वाईकिपीडिया ने उनका वर्णन भारतीय मूल के एक कनाडाई अभिनेता के रूप में किया है,” ठाकरे ने कहा।

फडनवीस, जो हाल ही में नदी संरक्षण के बारे में एक वीडियो गीत में दिखाए गए थे, पर चुटकी लेते हुए मनसे प्रमुख ने कहा, “राज्य में इतनी सारी समस्याएं हैं, लेकिन जाहिरी तौर पर मुख्यमंत्री जी गाने गा रहे हैं।” ठाकरे ने पिछले महीने बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी के अंतिम संस्कार में राजकीय सम्मान देने के लिए सरकार के फैसले पर सवाल उठाया। “श्रीदेवी एक महान अभिनेत्री थीं, लेकिन उन्होने देश के लिए क्या किया जो उनकी बॉडी को तिरंगे में लपेटा गया था?” उन्होने पूछा। उन्होंने कहा कि मीडिया नें उनके अंतिम संस्कार को व्यापक रूप से कवर किया जा रहा था ताकि लोगों का ध्यान नीरव मोदी-पंजाब नेशनल बैंक घोटाले से हट जाए। सरकार सीबीआई की तरह मीडिया, न्यायपालिका और एजेंसियों को नियंत्रित करने की कोशिश कर रही है।

ठाकरे नें आरोप लगाते हुए कहा कि मीडिया भाजपा की अगुवाई वाली सरकार में भारी दबाव में है। संयोग से, ठाकरे ने कल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार से मुलाकात की थी, आज की रैली से पहले हालांकि, उन्होंने दक्षिण मुंबई में पवार के निवास में शिष्टाचार के रूप में बैठक का उल्लेख किया।