गरीबों के स्कूलों की नीलामी के खिलाफ शिक्षक संघ शेखावत ने किया तहसीलों पर विरोध प्रदर्शन

dholpur teacher protest
File Photo: जिला तहसीलों पर विरोध प्रदर्शन करते हुए
Share this news...
Omprakash Varma
ओमप्रकाश वर्मा

धौलपुर। राज्य सरकार द्वारा पीपीपी के नाम पर स्कूलों को नीलाम कर बेचने के निर्णय के खिलाफ शिक्षा चिकित्सा बचाओ अभियान के तहत बुधवार को प्रदेश के तहसील मुख्यालयों पर विरोध प्रदर्शन कर तहसीलदार/एसडीएम के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन दिये गये। धौलपुर कलेक्ट्रेट पर संगठन के तमाम शिक्षकों ने विरोध प्रदर्शन कर एसडीएम ओमप्रकाश सहारण के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा।

शिक्षक संघ शेखावत के प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष यादवेन्द्र शर्मा ने बताया कि राज्य सरकार ने पूर्व में बीस हजार स्कूल एकीकरण के नाम पर मर्ज कर दिये अब  सरकार ने 300 स्कूलों को पीपीपी मोड के नाम  पर 10 बर्ष के लिए नीलम करने का निर्णय लिया है। गरीबों की स्कूल कही जाने वाली सरकारी स्कूल नीलामी के जरिये निजी हाथों में सौपे जायेगे। इन स्कूलों का संचालन बडी फर्म के हाथ ही होगा।

dholpur teacher protest
FIle Photo: जिला तहसीलों पर विरोध प्रदर्शन करते हुए

प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष यादवेन्द्र शर्मा ने कहा कि राजकीय विधालयों को बेचने की प्रक्रिया से जाहिर होता है कि राज्य सरकार अत्यंत महत्वपूर्ण लोक कल्याणकारी उत्तर दायित्व को वहन करने से पीछे  हट रही है।

सरकार का यह कृत्य अनुचित एवं जन विरोधी है। जिलामंत्री विशालगिरि ने कहा कि राजकीय विधालयों का निजीकरण करने से आमजन के हितों पर कुठाराघात होगा तथा शिक्षा का अधिकार निष्प्रभावी होगा। यदि सरकार ने निर्णय वापिस नहीं लिया तो अन्य शिक्षक संगठन, नर्सेज संगठन, प्रशिक्षित बेरोजगार एवं आमजन को साथ लेकर आन्दोलन तेज किया जायेगा।

प्रदर्शन में प्रदेश संरक्षक मुन्ना बाबू पाठक, रामगोविंद शर्मा, ठाकुर दास शर्मा, राजेन्द्र श्रीवास्तव, प्रमोद त्यागी, हरी सिंह राना, नवलसिंह, नत्थी लाल त्यागी, हरीसिंह मीणा, अनुज गर्ग,सत्यनारायण शर्मा, ओमप्रकाश पारोदिया, अनिलप्रताप उपाध्याय, हरीश कुमार शर्मा, रामेश्वर सिंह,अनिल गुप्ता, राकेश तिवारी, दुर्गसिंह राना आदि तमाम साथी शामिल थे। इसी प्रकार बाडी, बसेडी, सैपऊ एवं राजाखेड़ा तहसीलों पर ज्ञापन दिये गए।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।