पुल

राजघाट पुल 24 घंटो के लिए बंद, भदऊचुंगी और पड़ाव चौराहे पर लगा बैरियर

70

आरयूपी (रेलवे ब्रिज नं.12) काशी यार्ड के आरसीसी स्लैब व बीम की मरम्मत के बाद खोला जाएगा रास्ता…

दयानंद तिवारी

दयानंद तिवारी

 

 

 

 

 

 

वाराणसी: बनारस से बिहार, झारखण्ड, मध्य प्रदेश, चंदौली, मिर्जापुर, सोनभद्र को जोड़ने वाले राजघाट पुल को सोमवार की रात से अगले चौबीस घंटे के लिए प्रशासन की देखरेख में बंद कर दिया गया। जिला प्रशासन की ओर से पहले से जारी निर्देश के तहत भदऊचुंगी और पड़ाव चौराहे के पास बैरियर लगाकर सभी प्रकार के वाहनों के आवागमन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

बता दें कि रेलवे विभाग द्वारा भदऊचंगी- पड़ाव मार्ग के बीच स्थित आरयूपी (रेलवे ब्रिज नं.12) काशी यार्ड के आरसीसी स्लैब व बीम की तुड़ाई कार्य के लिए जिला प्रशासन के साथ मीटिंग कर तय किया गया कि सोमवार की रात से मंगलवार तक 24 घंटे के लिए राजघाट पुल पर यातायात रोककर कार्य पूरा किया जाएगा। जिसके तहत सोमवार की रात 10 बजे दोनों ओर से रास्ता पूरी तरह रोक दिया गया। इधर, वक्त के भीतर मरम्मत कार्य खत्म करने के लिए रेलवे विभाग के इंजीनियरों ने पटरी मरम्मत का कार्य शुरू कर दिया है। विभागीय अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार की रात 12 बजे काम पूरा होने के बाद राजघाट पुल दोबारा यातायात के लिए खोल दिया जाएगा।

कईयों की छुटी ट्रेन तो कई गये रामनगर घूमकर
जिला प्रशासन के द्वारा राजघाट पुल पर यातायात 24 घंटे के लिए बंद करने के बाबत जानकारी कुछ दिन पहले ही सार्वजनिक कर दी गई थी, लेकिन इसके बावजूद भी सोमवार की रात जब यातायात रोका गया तो कई लोग खासा परेशान हो गए।

शहर से पंडित दीनदयाल रेलवे स्टेशन पर ट्रेन पकड़ने के लिए जा रहे करीब एक दर्जन लोगों की ट्रेनें छूट गईं। वहीं फोर व्हीलर और टू व्हीलर सवार कई लोगों को लंका होते हुए रामनगर से घूम कर जाना पड़ा। इस दौरान कुछ लोग जिला प्रशासन को कोसते हुए भी नजर आए।

बहुत जरूरी है, जान लें डायवर्जन प्लान
एसपी ट्रैफिक सुरेश चंद्र रावत की ओर से जारी किए गए  रूट डायवर्जन प्लान के तहत कैण्ट, कज्जाकपुरा व भदऊचुंगी की तरफ से पड़ाव व मुगलसराय की तरफ जाने वाले समस्त वाहन सामनेघाट पुल से मुगलसराय व पड़ाव होते हुए अपने गन्तव्य तक जायेंगे। मुगलसराय, पड़ाव की तरफ से शहर में आने वाले सभी प्रकार के वाहन सामनेघाट व विश्वसुन्दरी पुल की तरफ से शहर की ओर भेजे जायेंगे।