इन लोगों ने की थी लालू की पैरवी का फोन

lalu Yadav
Janmanchnews.com
Share this news...
Pankaj Pandey
पंकज पाण्डेय

रांची। चारा घोटाले में देवघर कोषागार (आरसी 64 ए/96) से हुई फर्जी निकासी के मामले में लालू प्रसाद को सजा सुनाये जाने से पूर्व सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश शिवपाल सिंह ने लालू प्रसाद की पैरवी से सम्बंधित फोन का जिक्र किया था। इसके बाद राजनीतिक दलों के बीच आरोप -प्रत्यारोप का दौर जारी था।हर कोई जानना चाहता था कि आखिर फोन किसने किया था? अब  इस पर से पर्दा उठ गया है।

दरअसल यह फोन उत्तर प्रदेश के एक जिले के डीएम और एसडीएम ने किया था। दोनों ने फोन कर लालू प्रसाद की पैरवी की थी। सूत्रों के अनुसार, डीएम ने कहा था कि लालू जी अच्छे आदमी हैं।

वहीं, एसडीएम ने न्यायाधीश को फोन कर कहा था कि लालू जी रिश्तेदार लगते हैं, देख लीजिएगा सर। बताया जाता है कि इसी फोन के बाद फैसले के बिंदु पर सुनवाई के दौरान न्यायाधीश शिवपाल सिंह ने लालू प्रसाद से कहा था कि आपके कई शुभचिंतक फोन कर पैरवी कर रहे हैं, लेकिन मैं किसी की नहीं सुनता। मैं वही करूंगा, जो कानून कहता है। न्यायाधीश शिवपाल सिंह उत्तर प्रदेश के जालौन जिले के रहनेवाले हैं।

न्यायाधीश शिवपाल सिंह का पैतृक घर जालौन जिले के ग्राम शेखपुर खुर्द, पोस्ट सिहारी दाउदपुर में है। यहीं पर खुद की जमीन पर कब्जे के लिए जज शिवपाल और उनके भाई पिछले 11 साल से जालौन के कनीय से लेकर वरीय अधिकारियों तक के चक्कर लगा रहे थे, लेकिन कोई सुन नहीं रहा था।

जज शिवपाल सिंह ने 12 दिसंबर को डीएम और एसपी से मुलाकात कर मामले को निबटाने का आग्रह किया था। विश्वस्त सूत्र बताते हैं कि इस क्रम में डीएम ने शिवपाल सिंह से कहा कि वह झारखंड में न जज हैं, पहले कानून पढ़ कर आयें। इससे पूर्व जज ने ग्राम प्रधान और बीडीओ की उपस्थिति में अपनी जमीन पर पत्थर गड़वाये थे, लेकिन रात में ही विरोधियों ने पत्थर हटवा दिया था।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।