Wine shop, jan manch

नशे की लत का पूरा करने के लिए 60 रुपए की रेसकफ 150 रूपये में खरीद रहे हैं युवक

7
ईशू केशरवानी

ईशू केशरवानी की रिपोर्ट…

रीवा। मिली जानकारी के मुताबिक गंगेव शहर में रेसकफ की तस्करी करने वाले गिरोह ने अपना ट्रेंड बदल दिया है। रेसकफ बिक्री का पूरा कारोबार अब मोबाइल से ही चल रहा है और शहर के भीतर नशीली रेसकफ मुंह मांगे कीमत में बिक रही है।

हासिल जानकारी के अनुसार शहर के भीतर पुलिस द्वारा रेसकफ बिक्री करने वालों पर शिकंजा कसने के बाद अब इसकी बिक्री गोपनीय तरीके से कर रहे है अपराधी रेसकफ बिक्री का पूरा कारोबार मोबाइल से चल रहा है। मोबाइल में फोन करने पर युवकों को संबंधित जगहों पर रेसकफ पहुंचा दी जाती है। इसके लिए उनको 60 रुपए की कोरेक्स 150 रुपए में खरीदनी पड़ती है। एवं कम स्टाक पर 200 रुपए तक में बिक्री की जाती है।

हालांकि जब रेसकफ का स्टाक कम हो जाता है तो यह 200 रुपए तक में बिक जाती है। शहर के कुछ मेडिकल स्टोर संचालक
रेसकफ बिक्री करते है लेकिन उसका स्टाक वे अपनी दुकान में नहीं रखते है। और न ही दुकान से इसकी बिक्री करते है। रेसकफ नशीली शीरप विश्वसनीय आदमी  द्वारा फोन  करने पर ही मेडिकल स्टोर संचालक उपलब्ध करवाते है। यदि पुलिस एक-दो शीशी के साथ युवक को पकड़ भी लेती है तो उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होती है। रेसकफ की बिक्री अब खुलेआम हो रही है बल्कि चोरी छिपे इसकी बिक्री धड़ल्ले से चल रही है। नशे के लिए रेसकफ का उपयोग करने वाले युवकों की संख्या कम नहीं है।

सिर्फ तस्करी के लिए उपयोग करते है नम्बर…

रेसकफ बिक्री के लिए मेडिकल स्टोर संचालक जिस नम्बर का इस्तमाल करते हैं। उसका उपयोग सिर्फ तस्करी के लिए होता है। इसके अतिरिक्त इस नम्बर को किसी दूसरे काम के लिए उपयोग नहीं होता है। फर्जी सिम बाजार से लेकर उसका उपयोग तस्करी के लिए करते है। जो कि एक बड़ा मुद्दा बनते नजर आ रहा है।


TAG