सारनाथ

सारनाथ डबल मर्डर केस वर्कआउट, दो अभियुक्त चढ़े पुलिस के हत्थे, चार की तलाश जारी

0

बीते दिनों सारनाथ थानाक्षेत्र में बीयर शॉप के बाहर चखने की दुकान लगानें वाले एक अधेड़ व्यक्ति और उसके भांजे की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी…

दयानंद तिवारी

दयानंद तिवारी

 

 

 

 

 

 

वाराणसी: सारनाथ थाना क्षेत्र में हुए दोहरे हत्याकांड का वर्कआउट कर पुलिस ने अपनी नाक बचा ली है। डबल मर्डर केस का वर्कआउट करने वाली पुलिस टीम को एसएसपी आर के भारद्वाज ने सम्मानित किया है। 15 दिनों के अंदर हुई पांच हत्या की वारदातों से पुलिस विभाग की खासी किरकिरी हो रही थी।

डबल मर्डर केस में अंततः पुलिस को सफलता मिली। वारदात में शामिल दो अभियुक्त पुलिस के हत्थे चढ़ गए हैं। अभी 4 बदमाशों की तलाश की जा रही है। एसएसपी आरके भारद्वाज ने शनिवार को खबरनवीसों से बातचीत में बताया कि 3 मई को सारनाथ के रजनहिया गांव में हुए चाचा-भतीजे की हत्या के मामले में क्राइम ब्रांच, सारनाथ व चौबेपुर पुलिस ने साझा अभियान के तहत मुखबिर की सूचना पर सारनाथ रेलवे स्टेशन से दो अभियुक्तों को धर-दबोचा। फरार 4 बदमाश भी जल्द पुलिस की गिरफ्तार में होंगे।

बताया कि पकड़े गए अभियुक्तों का नाम-पता कैंट थाना क्षेत्र निवासी नीरज रावत उर्फ रगडू़ और आशीष राजभर है। शनिवार की सुबह क्राइम ब्रांच को मुखबिर से सूचना मिली कि डबल मर्डर केस से सम्बंधित आरोपी भागने के फेर में रेलवे स्टेशन पर मौजूद हैं। पता चलते ही सारनाथ रेलवे स्टेशन पर घेरेबंदी कर दोनों आरोपियों को धर दबोचा गया। बोले कि पकड़े गए आरोपियों की शराब ठेके के सेल्समैन ने भी पहचान किया है।

पूछताछ में अभियुक्तों ने बताया है कि शराब ठेके के पास बसंता यादव व राजेश यादव के चखने के दुकान पर चखना खरीदने को लेकर आपस मे विवाद हुआ। दोनों दुकानदारो ने मिल कर हम पर हमला कर दिया था। हम वहां से चले गए और सारी बात अपने अन्य साथियों से बताई। साथियों के साथ मिलकर हम वापस मौके पर आए। बातचीत के दौरान विवाद इतना बढ़ गया कि साथियों ने गोली चला दी। गोली चलाने के बाद सभी वहां से भाग निकले। सुबह हमे जानकारी हुई कि दोनों की मौत हो गई। हमारे 4 साथी वारदात के बाद मुम्बई भाग गए। हम नहीं भागे और अपना फोन भी चालू रखा। जिससे कि हम पर किसी को शक न हो। शनिवार को हम दोनों भी मुम्बई भागने के फिराक में थे कि पकड़े गए।

डबल मर्डर केस में अब पुलिस को पंकज कुमार भारती, प्रिंस शर्मा, बाबू राजभर और राजू धरकार की तलाश है। सभी अभियुक्त कैंट थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं।

पकड़े गए अभियुक्तों के पास से एक पिस्टल 32 बोर, दो जिंदा कारतूस, एक पिस्टल एनपी 32 बोर बरामद हुआ है।