pradhanmantri aaswas yojna

प्रधानमंत्री के सपनों को चकनाचूर कर रही नगर परिषद मझौली: श्री निबास

62
Rambihari pandey

रामबिहारी पांडेय

सीधी। नगर परिसद मझौली मे भ्रष्टाचार के नये कीर्तिमान स्थापित किये जा रहे मझौली की जनता भाजपा के भ्रष्टाचार से मुक्ति पाकर इसीलिये कांग्रेस को चुना था की नगर का भेदभाब रहित बिकास होगा लेकिन अध्यक्ष रूबी बिदेश सिंह द्वारा ब्यापक भृस्टाचार किया जा रहा है।

आपात्रों को बांटे जा रहे आवास…

गोगपा के ब्लाक ईकाई के अध्यक्ष श्री निबास नेटी ने आरोप लगाया अध्यक्ष द्वारा पैसा लेकर आवास दिये जाते हैं और जिनके पास पक्का मकान है उन्हीं को आवास दिया जाता है। अध्यक्ष के ख़ास सिपहसलार पार्सद कन्हैया गुप्ता द्वारा पहले, संबधित को बता दिया जाता है की 30000 रुपये लगेंगे मडफहा देवी मंदिर धोबियान तोला में राजकुमार श्रीवास्तव जो की पी एच ई डी विभाग में शासकीय कर्मचारी है इसी तरह पशुचिकित्सा विभाग में कार्यरत। मुकेश दाहिया को भी आवास दे दिया और उसके पुत्र को भी जबकि सबसे पहले जो अति ग़रीब हैं उनको देना चाहिये। इसी तरह बांटा पहरी टोलामे गोजे रजक को मकान दिया और कई ऐसे लोंगों को जिनका पक्का मकान भी है।

2011 की सर्वेसूची को रद्दी की टोकरी में फेंका…

सरकार द्वारा कई बार सर्वे कराया गया। जिससे जिनके कच्चे घर हैं उन्ही को आबास मिले। लेकिन 2017 से आवास का काम शुरू हुआ। शासन इस मंशा से की जिनका अब पक्का बन गया है। उनका नाम हट जाये लेकिन अध्यक्ष द्वारा हर जगह अपने आदमियों को ही आवास का लाभ दिया जा रहा है या फिर जो नगद नरायण देता है। आवास सूची को नगर पंचायत और प्रमुख जगहों पर चस्पा करना चाहिये लेकिन आवास की सूची एकदम गुप्त रखी जा रही है। जिससे किसी को अधिकृत रूप से यह पता न चल सके की किसको आबास मिला है।

आवास लेना है तो बालू और गिट्टी अध्यक्ष से ही लेना होगा…

जिन हितग्राहियों का आवास स्वीकृत हो जाता है। उनके यहां पहले से ही ज़्यादा रेत में बालू और गिट्टी गिरा दिया जाता है और उसकी पैसा खाते में तभी जाता है। जब बह बालू और गिट्टी का पैसा दे देता है

भाजपा-कांग्रेस एक ही थैली के चट्टे-बट्टे…

अध्यक्ष ने बताया नगर परिषद में इतना भ्रष्टाचार हो रहा है लेकिन कोई भी खुलकर बोलने को तैय्यार नहीं है। यहां तक की बिपक्ष में बैठी भाजपा के नेताओं को अपने कमीशन से मतलब है और ऑन रिकार्ड कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं।

गोडबाना ब्लॉक ईकाई के अध्यक्ष श्री निबास सिंह ने पत्र के माध्यम के कलेक्टर से मांग की है की अपात्रों का सूची हटाया जाये। और जो अपात्र आवास पा चुके हैं। उनसे रिकवरी किया जाये। आवास की सूची प्रत्येक बार्ड के चौराहों में आई डी सहित बोर्ड लगाकर पेंट से लिखा जाये यदि 15 दिन के अंदर कलेक्टर द्वारा कोई नहीं की जाती है तो पार्टी द्वारा आंदोलन किया जायेगा।