कभी आपने देखी या सुनी पेट्रोल की दुकान…इसतरह से चलती हैं पेट्रोल की दुकानें

petrol shop at road
Janmanchnews.com
Share this news...
Mithiliesh Pathak
मिथिलेश पाठक

श्रावस्ती। कस्बे समेत आसपास के गांवो व गली-मोहल्लों में खुलेआम पेट्रोल बिक रहा है।पेट्रोल की अवैध बिक्री का यह कारोबार काफी खतरनाक है ऐसे में कभी भी किसी घनी आबादी वाले इलाके में पेट्रोल-डीजल के अवैध कारोबार से जानमाल का खतरा मंडरा रहा है। इसे प्रशासन की घोर लापरवाही ही कहीं जाए तो गलत नहीं होगा। कस्बे व आस पास के गांवो में बीच बाजार में किराना व अन्य दुकानो पर खुलेआम पेट्रोल बेचने का काम किया जा रहा है।

श्रावस्ती जिले के भिनगा, मल्हीपुर, इकौना, गिलौला, वीरपुर के कस्बे हो या ग्रामीण क्षेत्र, जगह-जगह यह दुकाने ऐसी खुली है जैसे इनके पास पेट्रोल बेचनेे का वैध लाइसेंस प्रशासन ने खुद बनाकर दिया हो। हालात इतने खराब है कि कस्बे से दूर पेट्रोल पंप होने के कारण यह दुकानदार प्रशासन को ठेंगा दिखाते हुए यह मिलावटी पेट्रोल खुलेआम बेच रहे है और इस ओर कोई ध्यान देने वाला नहीं है।

स्थिति यह है कि दुकानदारों द्वारा पेट्रोल बेचने का यह कार्य आज से नहीं बल्कि वर्षो से चल रहा है यूं कहें कि ग्रामीण क्षेत्रों तक में जगह-जगह पेट्रोल बम लगे हैं। गांव व शहर के रिहायशी यहां तक की मेनरोड के भीड़-भाड़ वाले इलाके में भी खुलेआम पेट्रोल-डीजल बेचा जा रहा है। इससे किसी भी समय कोई बड़ी अनहोनी हो सकती है। गांवों व शहर के कई क्षेत्रों में दुकानदार हजारों लीटर पेट्रोल का अवैध भंडारण किए हुए हैं।

ऐसे में इन क्षेत्रों में कभी भी कोई बड़ी अनहोनी हो सकती है। यह मिलावट का भी धंधा है। खूब फलफूल रहा है। बोतलों में बंद दुकानो में खुले में रखे पेट्रोल बेहद घातक साबित हो सकते हैं। छोटी सी लापरवाही या किसी की शरारत तबाही मचा सकती है। खास तो यह कि जानकारी जिम्मेदारों को भी है, बावजूद अनदेखा हो रही। रास्ते में गाड़ियों में पेट्रोल खत्म हो जाने पर वाहन चालक ऐसे पेट्रोल के खरीदार होते हैं। उन्हें प्रति लीटर आठ से दस रुपए ज्यादा चुकाने पड़ते हैं। और प्रशासन के नुमाइंदे इन पर कार्रवाई करने के स्थान पर अपने वाहनो में पेट्रोल इन्ही स्थानो से भरवाने मे कोई परहेज नही करते।

खुले में पेट्रोल बेचने वाले ज्यादा मुनाफे के लालच में मिलावट करते हैं इससे इनकार नही किया जा सकता है। इससे गाड़ी के इंजन को भारी नुकसान होता है। ऐसे मिलावटी पेट्रोल की बिक्री पर तत्काल रोक लगानी चाहिए। अवैध रूप से पंप चलाने वाले लोग शहर के ही विभिन्न पंपों से पेट्रोल और डीजल बड़े गैलन आदि में खरीद कर लाते हैं। फिर इसमें सॉल्वेंट, थिनर और किरासन तेल आदि मिलाकर बेचते हैं।

बड़े हादसे के इंतजार में प्रशासन…

खुलेआम दुकानों पर बिक रहे मौत के इंतजाम से प्रशासन अनजान नहीं है प्रशासनिक अधिकारी उन रास्तों से गुजरते ही हैं जहां दुकानों और घरों पर पेट्रोल से भरी बोतलें रखी रहती हैं ओर यह सब कार्य गैर कानूनी है और किसी भी हादसे को खुला निमंत्रण है. भिनगा बाजार, में खुले पेट्रोल से नई बाजार और मंगल भट्ठे, के पेज 2 बार आग लग चुकी है जिससे लाखो का नुकसान हुआ था। घटना के बाद प्रशासन हरकत में आया था और कुछ दिनों के लिए दुकान बंद हो गई थी, लेकिन समय बीतने के साथ दुबारा खुले में पेट्रोल की दुकाने सजने लगी। प्रशासन और रसद विभाग को इस बात की जानकारी है और वह इस कारोबार पर नज़र भी रखे हुए है पर इस धंधे में शामिल लोगो के हौसले बुलंद है।

प्रशासन भी इनके आगे मजबूर और बेबस नजर आता है। हांलाकि रसद विभाग और जिला प्रशासन भी इस गोरख धंधे से अनजान नहीं है लेकिन प्रशासन द्वारा अभी तक इनके विरुद्ध कोई सख्त कदम नहीं उठाया गया है। विभागीय अधिकारी भी मानते हैं कि इस तरह के कारोबार से न सिर्फ राजस्व की हानि हो रही है बल्कि किसी बड़े हादसे की भी आशंका बनी रहती है। अब इंतज़ार है प्रशासन की तरफ से की सख्त कद उठाए जाने का ताकि किसी भी तरह के हादसे को टाला जा सके।

हालाकि इस सम्बंध में जब डीएम दीपक मीणा से बात की गई तो डीएम का कहना था कि पहले भी अभियान चलाया जा चुका है। फिर अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।