देश दुनिया में चमक रही श्रावस्ती की बेटी ‘राधा श्रीवास्तव’

singer radha shrivastva
File Photo: कार्यक्रम के दौरान राधा श्रीवास्तव बादशाह के साथ
Share this news...
Mithiliesh Pathak
मिथिलेश पाठक 

जनमंच विशेष (श्रावस्ती)। एक पुरानी कहावत है कि “मंजिल उसी को मिलती है जिनके सपनों में जान होती है, पंख से कुछ नहीं होता हौसलों में उड़ान होती है”

यह पंक्तियां उत्तर प्रदेश के सबसे पिछड़े श्रावस्ती जिले के सिरसिया ब्लॉक के उस गांव की बेटी पर सटीक बैठती है जहाँ पर आज भी लोग बिजली और रास्तों के लिए आश लगाकर बैठे हुए हैं। आज़ादी के 70 साल बाद भी विकास की राह देख रहे लोगों के चेहरे पर एक बेटी ने मुस्कान फेर दी हैं।

जी हां हम बात कर रहे है सिरसिया ब्लॉक के “सेमरा” गांव निवासी राधा श्रीवास्तव की, जिसने इस कहावत को सच कर दिया है और अपने आवाज का जादू आज “स्टार प्लस” टीवी चैनल के माध्यम से देश ही नहीं विदेशों में बिखेर रही है। आज 2 सितंबर को उनसे 7वां पड़ाव पार कर जिले के नाम सुनहरे अक्षरों में दर्ज करवा दिया है।

singer radha shrivastva
Janmanchnews.com

हम आपको टीवी दुनिया की नई गायिका जो यूपी के श्रावस्ती जिले से हैं उनके बारे में कुछ अच्छी और रोचक जानकारी देने जा रहे हैं और बताते है उनके बारे में कुछ अच्छी और मीठी बाते…..

अपने पिता के साथ हारमोनियम पर गीत और संगीत में रुचि रखकर कर अपने सफर की शुरूआत करने वाली राधा ने आज ‘दिल है हिन्दुस्तानी 2′ जैसे बड़े रियल्टी शो में जगह बना ली है इससे पहले भोजपुरी टीवी चैनल के प्रोग्राम “रंग पुरवइया” में भी वह अपना हुनर दिखाकर लोहा मनवा चुकी है।

singer radha shrivastva family1
Janmanchnews.com

उनके पिता शिवसहाय लाल श्रीवास्तव बताते हैं राधा श्रीवास्ताव को बचपन से ही गाने का काफी शौक था गांव में, स्कूल में या आस पास जब कभी कोई उत्सव या प्रोग्राम होता तो वह गीत गाने के लिए बेकरार रहती थी।

राधा की प्रारंभिक शिक्षा प्राथमिक विद्यालय लोहटी और जूनियर की शिक्षा उच्च प्राथमिक विद्यालय विशुनापुर लोहटी में हुई इसके प्रधानाध्यापक उसके पिता ही थे इसके बाद राधा ने अपनी हाईस्कूल व इण्टरमीडिएट की शिक्षा गांव के ही राजेन्द्र दास जनजातीय इण्टर कालेज मसहाकला से पूरी की। इण्टर की पढ़ाई पूरी होने के बाद पिता ने बेटी की संगीत में रुचि को देखते हुए उसका दाखिला संगीत विद्या पीठ लखनऊ में करा दिया। उस समय राधा की माँ की तबियत काफी खराब रहा करती थी, तभी उसकी भाभी भी आ गई, और उसने घर की जिमेदारी सम्भाल ली।

लखनऊ से राधा ने संगीत के विसारत की डिग्री हासिल की उसके बाद 2017 में राधा का सेलेक्शन भोजपुरी मंच के रंग पुरवइया में हुआ।

इसमें राधा ने टाप-6 तक का सफर तय किया फिर स्टार प्लस चैनल में आडीशन देने के बाद 2018 में उसका चयन टीवी दुनिया के सबसे बड़े रियलिटी शो ‘दिल है हिन्दुस्तानी 2′ में टाप-12 के रूप में हो गया।

singer radha shrivastva family
Janmanchnews.com

राधा के चयन से परिवार ही नहीं पूरे गांव के लोग खुश तो हैं ही नई पीढ़ी के बच्चों के लिए प्रेरणा भी है गरीबी में पली बढ़ी राधा ने अपने हुनर से वह मुकाम हासिल किया है।

यह लड़की प्रदेश के उस जिले से बाहर निकली हैं, जहां पर जल्द ही लड़कियों कि शादी कर मां बाप अपना फर्ज उतारने में लगे रहते हैं, लड़कियों को चूल्हा चौका तक ही अधिकांश सीमित रक्खा जाता है, लड़कियों की गांवों में ज्यादातर पढ़ाई भी नही कराई जाती, इन सब बाधाओं को पार करते हुए इंडो नेपाल सीमा के पास सबसे पिछड़ा मॉनके जाने वाले ब्लॉक के गांव से गुजरकर इस लड़की ने एक प्रेरणादायक मुकाम हासिल की हैं, आज जिले के अलावा देशवासी भी उसे जिताने के लिए वोट कर रहे हैं।

इस मंदिर पर ही राधा भजन कीर्तन किया करती थी, यह धरती ही उसकी जन्म भूमि और कर्म भूमि हैं, जहां पली बढ़ी राधा ने अपने आवाज़ के जादू से आज युवा पीढी को नया सबब देते हुए आगे बढ़ रही है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।