sidhi victim

न्याय के लिए दर-दर भटकता मृतक नाबालिग का पिता, थाना प्रभारी ने दिया धमकी ‘अगर नहीं जाओगे तो ठीक नहीं होगा’

38
Rambihari pandey

रामबिहारी पांडेय

सीधी (रामपुर नैकिन)। महिलाओं के साथ हो रहे जघन्य अपराधों के कारण सूबे की सरकार जहां एक तरफ विपक्ष के निशाने पर है। वहीं सरकार को आए दिन इस तरह के मामलों में फजीहत झेलनी पड़ी रही है और विधानसभा मध्यप्रदेश के नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह शिवराज सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल रखे हैं।

वहीं दूसरी तरफ नेता प्रतिपक्ष के विधानसभा क्षेत्र में एक नाबालिग बालिका के आत्महत्या करने के माह भर गुजर जाने के बाद पुलिस की अकर्मण्यता और मामले की गंभीरता की बाद भी कार्यवाही का ना होना पुलिस की निष्क्रियता को उजागर करता है। जबकि मामले में मृतका की मां एवं उसके भाई ने पड़ोस के सजातीय युवक पर हत्या करने के साथ-साथ आरोपी के परिजनों पर मामले के साक्ष्यों को नष्ट कर मामले को खत्म करने का संगीन आरोप लगाते हुए कहा कि उपरोक्त घटना के बाद रामपुर नैकिन पुलिस की भूमिका भी संदिग्ध है। क्योंकि रामपुर नैकिन पुलिस आज तक किसी भी प्रकार की कार्यवाही नहीं की है।

मामले के संबंध में मृतका के परिजनों ने बताया कि मृतका पूजा साकेत पिता सुग्रीव साकेत उम्र 15वर्ष निवासी ग्राम पंचायत मऊ थाना रामपुर नैकिन को अट्ठाइस फरवरी की सुबह लगभग साढ़े दस बजे जब वह अपने घर पर अकेली थी। उसी दौरान पड़ोस में रहने वाले रितेश साकेत ने मृतका की मां के मोबाइल पर फोन कर बोला कि मैने बोला था ना मेरी बात नहीं सुनी तो अब आकर अपने घर अपनी बेटी का हाल देख लो मैने क्या किया है तब मृतका की मां सोनिया साकेत ने अपने घर के लोगों को फोन किया तो पता चला कि पूजा ने फासी लगा ली है और उसके पांव घुटने के बल पर जमीन पर है।

जैसे उसे मारकर फांसी पर लटकाया गया हो तभी रितेश के परिजन घर आ गए और पूजा के परिजनों के मना करने के बाद भी मृत पूजा को पुलिस के आने के पहले ही रस्सी काटकर बाहर लिटा दिया गया और जब पुलिस आई तो मामले को रफा-दफा दफा करते हुए कोरे कागज में परिजनों के दस्तखत करवाकर मृत पूजा को पोस्टमार्टम के लिए भेज दी और स्वयं ही परिजनों का बयान मनगढंत लिखकर मामले में कोरम पूर्ति कर मामले को खत्म कर दी। जबकि होना ये चाहिए था कि पुलिस को परिजनों का बयान घटना स्थल पर लेकर मामले की गंभीरता को देखते हुए क्योंकि मामला नाबालिक लड़की का था जांच करनी चाहिए थी परंतु पुलिस द्वारा मामले को रफा-दफा दफा कर दिया गया।

सरपंच ने किया था विरोध…

घटना के दिन जब पुलिस द्वारा मामले में कोरे कागज पर परिजनों के हस्ताक्षर लिए जा रहे थें। तब ग्राम पंचायत-सरपंच ने पुलिस की कार्यवाही का विरोध किया कि आप यहीं पर परिजनों का बयान ले और उनके हस्ताक्षर करवाए क्योंकि घटना फांसी की नहीं बल्कि हत्या कर फांसी पर लटकाने की लग रही है। लेकिन पुलिस थी की अकर्मण्यता और लीपापोती के कारण एक नाबालिक लड़की के मामले में पर्दा डाल कार्यवाही से बचती रही।

आरोपी दे रहा था कई दिनों से धमकी…

घटना के संबंध में मृतका की मां ने बताया कि आरोपी रितेश कई दिनों से मेरे फोन पर मेरी बेटी को भगा ले जाने की धमकी दे रहा था और कहता था कि अगर वो ना भागी तो मैं उसकी हत्या कर दूंगा। जिसके कारण मैं डरी हुई थी। पर ये नहीं सोची थी की आरोपी मेरी बेटी की हत्या कर देगा और घटना के दिन सुबह भी उसने फोन किया था कि आज मैं तुम्हारी लड़की को लेकर भाग जाऊंगा और अगर वो नहीं मानी तो मैं उसकी हत्या कर तुम्हें दिखा दूंगा लेकिन मेरे घर से बाहर जाते ही मेरी बेटी को अकेला घर में पाकर उसने उसकी हत्या कर फांसी से लटका दिया।

जिसकी सूचना आरोपी द्वारा ही मुझे फोन पर दी गई। जिसके बाद मैं अपने परिजनों को फोनकर पूजा कहा है और कैसी है कि जानकारी अपने परिजनों से लेने लगी तो पता चला कि मेरी बेटी अब इस दुनिया में नहीं रही और आरोपी ने उसे मार दिया।

मृतका का पिता अपनी बेटी के हत्यारों को सजा दिलाने पुलिस अधीक्षक सीधी तक कर चुका है शिकायत…

मृतक पूजा साकेत का पिता सुग्रीव साकेत गुजरात मे सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करता है। जब परिजनों द्वारा उसे सूचना मिली की उसकी बेटी फांसी लगा ली है तो वह गुजरात से सारे काम छोड़कर अपने गांव मऊ आया तो मृतका की मां ने बताया कि आरोपी उसे फोन से धमकी दे रहा था कि वो पूजा को मार देगा और उसने मार भी दिया।

तभी से वह रामपुर थाने से लेकर पुलिस अधीक्षक सीधी तक मामले की जांच के संबंध में आवेदन दे चुका है। परंतु सीधी पुलिस की निष्क्रियता है कि एक नाबालिक लड़की का पिता अपनी बेटी के हत्यारों को सजा दिलाने के लिए महीने भर से दर-दर भटक रहा है और उसे सिर्फ पुलिस अधिकारियों द्वारा आश्वासन दिया जा रहा है। साथ ही अब तो थाना प्रभारी रामपुर नैकिन उसे धमकी देने लगे है कि हम क्या करें यहां से चले जाओ तुम्हारी बेटी ने आत्महत्या की है और अगर नहीं जाओगे तो ठीक नहीं होगा।