बीते डेढ़ साल पहले मिले दो मानक कंकाल की पहेली का हुआ बड़ा खुलसा

skeleton case
janmanchnews
Share this news...
Anil Upadhyay
अनिल उपाध्याय
देवास। जिले के कन्नौद पुलिस थाना के अंतर्गत ग्राम ननासा के जंगल में डेढ़ साल पूर्व मिले दो मानव कंकालों की पहली सुलझ गई है। ये एक महिला और एक पुरुष का कंकाल था। प्रेम प्रसंग के कारण इन दोनों को उसके दोस्तों ने चाकुओं कुल्हाड़ी से मार कर फेंका था।
एएसपी ग्रामीण डॉक्टर नीरज चौरसिया ने बताया कि 13 फरवरी 2017 को यह कंकाल मिले थें। दोनों की धारदार हथियार से हत्या करना पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आया था।  एक साल तक हम मृतकों की शिनाख्त नहीं कर पाए थें। एसपी अंशुमान सिंह ने टीआई विश्वदीप सिंह परिहार को कैस से जुड़े टिप्स दिए।

इसके बाद आसपास के जिलों में गुमशुदा लोगों की जानकारी जुटाई गई। छानबीन मैं पुष्टि हुई कि एक नर कंकाल की पहचान विनोद रमेश चंद्र श्रीवास ननासा कन्नोद की हुई। वही दुसरी शिनाख्त इंदौर कनाडिया थाने की किरण पिता रामभरोस ठाकुर के रूप में हुई। फिर दोनों के बारे में छानबीन शुरु की गई।  उसके साथियों व परिजनो से पूछताछ की, फिर पता चला कि विनोद के द्वारा ही घटना को अंजाम दिया है।

पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म कबूला जुर्म।
पुलिस ने आरोपियों को हिरासत में लेकर जब पूछताछ की तो मुकेश प्रजापति, भीमा गुर्जर, लीलाबाई तथा कल्ला उर्फ अशोक गुर्जर सभी निवासी ननासा द्वारा विनोद के गुम होने के दिन से ही उसके बारे में उसके बारे में विरोधाभासी जानकारी दी गई थी। शक के आधार पर सख्ती से पूछताछ करने पर कल्ला उर्फ अशोक गुर्जर टूट गया।

उसने और उसके साथियों ने पुलिस के सामने अपने साथियों के साथ मिलकर दोहरे हत्याकांड को अंजाम देना स्वीकार कर लिया और उसने पुलिस को बताया कि मृतक विनोद को लीला बाई की लड़की पसंद थी यह बात साथी भीमा को अखरती थी, क्योंकि वह भी उसी लड़की को चाहता था ।  विनोद का लीला की ननासा स्थित चाय की दुकान पर आना जाना तथा उठना बैठना था। इसी बीच इन्दौर आने जाने के दौरान विनोद का प्रेम प्रसंग कनाडिया क्षेत्र की किरण के साथ हुआ।

यह दोहरा हत्याकांड की कहानी।
13 नवंबर 2016 को विनोद ने इंदौर से किरण को कन्नोद बुलवाया था और उसके साथ भागने का प्लान था। किरण के इंदौर से कन्नौद बस से आने के बाद विनोद रात 9:00 से 10:00 के बीच बस स्टैंड कन्नोद से मोटरसाइकिल से ननासा से कल्ला उर्फ अशोक गुर्जर के खेत में लेकर पहुंचा।

उस दिन दिन भर से मुकेश प्रजापति भी विनोद के साथ था। मुकेश की विनोद से पूर्व की रंजीश थी, जिस कारण मुकेश भी विनोद को रास्ते से हटाना चाहता था। मुकेश ने विनोद के पास किरण के आने की जानकारी लीलाबाई को दी। किरण का विनोद के पास आना लीलाबाई को ठीक नहीं लगा।

उसने यह बात भीमा को बताई भीमा विनोद से लीला की लड़की के चक्कर में पहले से ही रंजिश रखता था। इस पर लीला ने मुकेश के साथ चाय में नशीला पदार्थ मिलाकर विनोद और किरण के पास भेजी। मुकेश के हाथ की चाय विनोद पीकर विनोद व किरण को गश्त आने लगा, मुकेश दोनों को सुनसान जगह ले गया। जहा पर भीमा बाइक से लीला को ले आया। वहीं पर मुकेश ने चाकू से भीमा व कल्ला उर्फ अशोक ने कुल्हाड़ी से बार विनोद किरण किरण की हत्या कर दी।

तीन आरोपियों की 3 दिन की रिमांड मिली महिला को भेजा गया जेल।
पुलिस ने हत्या के उपयोग में लाई गई कुल्हाड़ी ,चाकू दो बाइक जप्त की है। कन्नोद पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार चारों आरोपियों को कन्नौद न्यायलय में पेश किया जहां से तीन पुरुष आरोपियों को 3 दिन का पुलिस रिमांड मिला जबकि महिला आरोपी को जेल भेज दिया गया है।

SP ने की पुलिस टीम को ₹10000 इनाम की घोषणा।
एएसपी ग्रामीण डॉक्टर नीरज चौरसिया ने बताया कि SP अंशुमान सिंह द्वारा पुलिस टीम को ₹10000 इनाम की घोषणा की। दोहरे हत्याकांड का खुलासा करने में थाना प्रभारी कन्नौद विश्वदीपसिह परिहार, तहजीब काजी, ASI अर्जुन सिंह राठौर एएसआई बी एस पटेल आरक्षक अशोक जोसवाल बालकृष्ण पाटीदार, महिला आरक्षक मेघा राणा ब आदि का विशेष सहयोग रहा।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।