strike

अवैध खनन के खिलाफ लगातार दूसरे दिन भी जारी है आदिवासी समाज का आमरण अनशन

34
Rohit Kumar Mishra

रोहित कुमार मिश्रा

चाईबासा। जगन्नाथपुर के टीडीपीएल, टीएमएम एवं सीटीएस कंपनी द्वारा फर्जी ग्रामसभा दिखाकर खनन करने के विरोध में 18 जुलाई से चल रही अनिश्चित कालीन आमरण अनशन गुरुवार को दूसरे दिन भी जारी रहा। अनशन पर बैठे आदिवासी समाज युवा महासभा केंद्रीय उपाध्यक्ष भूषण लागुरी व अनुमंडल अध्यक्ष मंजीत कोड़ा ने कहा कि अब तक कोई पदाधिकारी नहीं पहुंचा है।

उन्होंने बताया कि इससे साफ पता चलता है कि कंपनी ने सभी को पैसे के बल पर मैनेज कर लिया है। पदाधिकारी खदान कंपनी मिलकर आदिवासियों की आवाज दबाना चाहता है। इसके मंसूबे को कभी पूरा करने नहीं दिया जाएगा। कंपनी बात बात पर हमारे आदिवासियों को जेल भेजने की धमकी न दे। जेल में जगह आदिवासियों को डालने के लिए जगह कम पड़ जाएगी।

साथ ही उन्होंने कहा कि आदिवासीयों के ईमानदारी का गलत फायदा न उठाये। अन्यथा आंदोलन और उग्र हो जाएगी। शुक्रवार को प्रशासन से लिखित अनुमति लेकर आत्मदाह किया जाएगा। इसका जिम्मेदार प्रशासन व कंपनी वाले होगें। कहा कि जब तक अनशन स्थल पर प्रशासनिक पदाधिकारी व तीनों कंपनी के पदाधिकारी नहीं आएगें हमारा आंदोलन जारी रहेगा।

दोनों आंदोलनकारी का हौसला अफजाई के लिए गुरुवार को केंद्रीय महासचिव सोमा कोड़ा, ईपिल सामड, प्रखंड अध्यक्ष नरकांत कोड़ा, नोवामुंडी, प्रखंड अध्यक्ष बलराम लागुरी, सचिव शंकर चातोम्बा, उपाध्यक्ष बामिया चाम्पिया, संगठन सचिव बिरेंद्र बालमुचू, जिप सदस्य अभिषेक सिंकु, शम्भू हाजरा, जेवीएम नेता प्रशांत चाम्पिया, आदिवासी कांग्रेस नेता विनीत लागुरी अन्य सामाजिक व राजनीतिक कार्यकर्ता पहुंचे।

आंदोलनकारी दोनों नेता की हुई स्वास्थ्य जांच

चिकित्सक दल के डॉक्टर मोहम्मद इकबाल के दवारा गुरुवार को दोनों का जांच किया गया है। अनुमंडल अध्यक्ष मंजीत कोड़ा की स्वास्थ्य में गिरावट आई है ।

ये है मांगे

आदिवासी समाज की मांग है कि ग्रामसभा पंजी की छायाप्रति व सीडी उपलब्ध कराया जाए। कितने क्षेत्र में खनन कार्य करना है, इनका सीमांकन किया जाएगा। कार्यरत मजदूरों माईनिंग मजदूरी मिले। सीएसआर के तहत कंपनी ने अब तक क्या क्या कार्य किया है, इसका छाया प्रति व सीडी उपलब्ध कराई जाए।

पुरतीदिघिया से कुटिंगता भाया डांगुवापोसी, डांगुवापोसी से जुगीनंदा होते हुए सियालजोड़ा रामतीर्थ तथा मुघादिघिया से डांगुवापोसी तक कंपनी के भारी वाहन से जर्जर सड़क को ठीक किया जाए। ब्लास्टिंग से पीचुवा, मुघादिघिया, पुरतीदिघिया तथा पदापहाड़ में टूटी घरों की मरम्मति कराई जाए सहित अन्य मांगे है।