BREAKING NEWS
Search
sakshi maharaj

सुप्रीम कोर्ट नहीं, लोकसभा बड़ी है- साक्षी महाराज

336
Aashish Chauhan

आशीष चौहान

उन्नाव। साक्षी महाराज ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट नहीं, लोकसभा बड़ी है।  यह बताने के लिए मोदी सरकार ने SC/ST act को बहाल किया है। सुप्रीम कोर्ट ने कानून का अतिक्रमण करने का जो कार्य किया है। उसे मोदी सरकार ने सही किया है। उन्होंने कहा कि SC/ST act पर मोदी सरकार ने कोई नया कानून नहीं बनाया है, सुप्रीम कोर्ट ने जिस कानून को निरस्त कर दिया था।

उसी को बहाल किया है क्योंकि विपक्षी दल यह कहकर दुष्प्रचार कर रहे थे कि सुप्रीम कोर्ट से मिलकर मोदी सरकार ने एससी एसटी एक्ट निरस्त करा दिया है।

गौरतलब है कि, पत्रिका से बातचीत के दौरान वरिष्ठ अधिवक्ता अजेंद्र अवस्थी ने कहा था कि केंद्र सरकार द्वारा लाया गया कानून सर्वोच्च न्यायालय में टिक नहीं पाएगा और इसे पुनर्विचार के लिए वापस संवैधानिक पीठ को भेजा जा सकता है। इसके पहले भी सर्वोच्च न्यायालय ने SC/ST act के अंतर्गत होने वाली तत्काल गिरफ्तारी पर रोक लगा दी थी।

सुप्रीम कोर्ट ने SC/ST act कानून को निरस्त कर दिया था। जिसके बाद मोदी सरकार पर यह आरोप लग रहा था कि यह दलित विरोधी सरकार है और सुप्रीम कोर्ट से मिलकर कानून को निरस्त कर दिया है। मोदी सरकार को यह सिद्ध करने के लिए कि वह दलित विरोधी नहीं है। उसी कानून को बहाल किया गया है कोई नया कानून नहीं बना है। जो सारी दुनिया में चर्चा चल रहा है कि नया प्रस्ताव बना दिया नया कानून पास कर दिया।

इसी प्रकार मंदिर निर्माण का क्यों नहीं बनाया जा रहा है। मोदी ने कोई नया कानून नहीं बनाया है। कानून का अतिक्रमण जो सुप्रीम कोर्ट ने कर किया था। यह बताने के लिए कि सुप्रीम कोर्ट बड़ा नहीं है लोकसभा बड़ी है। संविधान के अधिकारों में सुप्रीम कोर्ट हस्तक्षेप नहीं कर सकता है। जो संविधान की धारा है सुप्रीम कोर्ट का काम है उनको लागू करना और उसके आधार पर निर्णय करना।

सुप्रीम कोर्ट अपनी इच्छा से किसी धारा को बदल नहीं सकता है। बाबा साहब अंबेडकर की इस धारा को सुप्रीम कोर्ट ने बदलने का काम किया था। उस को यथावत किया गया है। मोदी सरकार ने कोई नया कानून नहीं बनाया है। एक सवाल के उत्तर में उन्होंने कहा कि जाने वाले सुप्रीम कोर्ट जाएंगे।

उन्होंने कहा कि आजम खान ने किसी मामले को लेकर कहा करते थे कि मैं तो विदेश जाऊंगा। यहां तो कोई किसी को रोक नहीं सकता। भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है और यहां सब पर यह सब चलता है। जिसको जहां जाना है जाएगा।