गाजीपुर में ठाकुर-दलित आमने-सामने, जमकर चले लाठी-डंडे, फायरिंग की भी सूचना

दलित
Dalit-Thakur clash in Ghazipur leaves dozens injured...
Share this news...

गांव में बनी है तनाव की स्थिति, एहतियात के तौर पर पुलिस व पीएसी के जवान तैनात…

Shabab Khan
शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

 

गाजीपुर: यूपी के गाजीपुर में रेवतीपुर थाना क्षेत्र के नवली गांव में मंगलवार की रात बकाए के विवाद को लेकर दलित और राजपूतों में जमकर लाठी-डंडे चले, पथराव और हवाई फायरिंग भी हुई। उग्र भीड़ ने डायल 100 पुलिस और रास्ते से गुजर रहे पूर्व मंत्री ओम प्रकाश सिंह की गाड़ी को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। दो दर्जन से अधिक गुमटियों/दुकानों में तोड़फोड़ की। स्थिति को संभालने के लिए कई थानों की पुलिस बुलानी पड़ी।

गांव में तनाव की स्थिति बनी हुई है। एहतियात के तौर पर पुलिस व पीएसी के जवान तैनात हैं। बवाल की शुरुआत मंगलवार को देर रात हुई। दूसरे दिन सुबह गांव में पुलिस का तांडव जारी रहा।

बुधवार को सुबह राजपूतों के घरों में दबिश के दौरान पुलिस पर लूटपाट और महिलाओं से छेड़खानी का आरोप लगने से गांव में तनाव हो गया। घटना के विरोध में मोहम्मदाबाद विधायक अल्का राय और जमानिया विधायक सुनीता सिंह महिलाओं के साथ धरने पर बैठ गईं। विधायक द्वय का कहना था कि दिलदारनगर, गहमर और रेवतीपुर एसओ के साथ सीओ कासिमाबाद को निलंबित किया जाए और आपराधिक मुकदमा दर्ज किया जाए।

पुलिस के मुताबिक नवली इंटर कालेज के सामने दलित बस्ती के बब्लू (20) और राजू (25) पुत्रगण जवाहर राम की मोबाइल रिपेयरिंग और रिचार्ज की दुकान है। मंगलवार की देर शाम ग्राम प्रधान के परिवार के लोग रिचार्ज कराने उनकी दुकान पर पहुंचे, जिस पर दुकानदार ने पहले पुराना बकाया चुकता करने को कहा। यह सुनकर प्रधान का बेटे प्रदीप सिंह आपा खो बैठा और अपने साथियों के साथ दुकानदार राजू और बब्लू की पिटाई कर दी तथा उन्हें अपने राइस मिल में ले जा कर बंद कर दिया।

यह बात दलित बस्ती में पहुंची तो बड़ी संख्या में बस्ती के लोग मिल पर पहुंच गए और दोनों भाइयों को छुड़ा लाए। इस पर प्रधान के परिवारवालों के लोगों ने दलितों को घेर लिया और फिर दोनों पक्षों में मारपीट शुरू हो गई। इस दौरान हवाई फायरिंग के साथ कुछ लोगों ने आसपास की गुमटियों में तोड़फोड़ शुरू कर दी। सूचना मिलने पर यूपी 100 पुलिस मौके पर पहुंची तो उग्र लोगों ने उसके वाहन पर पथराव शुरू कर दिया।

पथराव की चपेट में आकर पूर्व मंत्री ओमप्रकाश सिंह का वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गया। मारपीट में एक पुलिस कर्मी के साथ ही जोखू राम (50), गोलू राम (17), राजू राम (25), खुशी राम (16), मन्नू राम (18), अशोक सिंह (40), रमाशंकर सिंह (65), संजय सिंह (27), प्रदीप सिंह (22) घायल हो गए। पुलिस सभी घायलों को पहले रेवतीपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और फिर यहां से जिला अस्पताल लाया गया। घटना के बाद प्रधान पति लालबहादुर सिंह ने 15 लोगों के खिलाफ नामजद तहरीर दी है।

पुलिस अधीक्षक सोमेन वर्मा ने बताया कि घटना पुरानी रंजिश को लेकर हुई है, लेकिन कल रिचार्ज को लेकर हुए विवाद में घटना को बड़ा रूप दे दिया गया है। इस मामले में एफआईआर दर्ज कर अभियुक्तों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।