वैशाली महोत्सव हो गया समाप्त, अब छोड़ गई यादें…

फोटो साभार: प्रभात खबर
Share this news...

कीर्तिमाला, वैशाली। तीन दिवसीय वैशाली महोत्सव समाप्त हो गया। इस महोत्सव की सबसे खास बात यह थी कि कार्यक्रम की शुरुआत बिहार में शराबबंदी से हजारों लोगों के घर-परिवार में आयी खुशहाली पर आधारित थी। जो आकर्षण का केंन्द्र रहा। वहीं कलाकारों ने शराबबंदी को बदलते बिहार की एक बहुत बड़ी उपलब्धि बताया।

महोत्सव के आखिरी दिन कार्यक्रम की शुरुआत लोक गायन से हुई। पटना दूरदर्शन के कलाकार अशोक कुमार के द्वारा तबला वादन भी किया गया। नृत्यांगना एलीसा दीप गर्ग के द्वारा मनमोहक नृत्य भी पेश किया गया। जिससे दर्शकगण भावविभोर हो गए। राज्य स्तरीय युवा महोत्सव की विजेता आरती द्वारा भी कार्यक्रम पेश किया गया। जो काफी सराहनीय रहा। काव्य-पाठ का भी आयोजन किया गया।

इस दौरान हेल्दी बेबी शो का भी आयोजन किया गया। जो काफी रोचक रहा। कार्यक्रम के दौरान छोटी-छोटी बच्चियों द्वारा बुद्धम शरनम् गच्छामि पर भाव नृत्य भी पेश किया गया। इन बच्चों के आकर्षक नृत्य से दर्शक काफी उत्साहित दिखे। लोक गायिकाओं द्वारा पावन पर्व छठ के गीतों की भी प्रस्तुति दी गई। जिसने दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया।

वैशाली महोत्सव की आखिरी शाम लोक-नृत्यों के ही नाम रहा। हजारों दर्शक-श्रोता महोत्सव की आखिरी शाम का आनंद लेने पहुंचे। इन कलाकारों और दर्शकों के बीच कार्यक्रम का समापन हो गया। इस मौके पर जिला कार्यक्रम पदाधिकारी भी मौजूद थे और कार्यक्रम के दौरान काफी उत्साहित भी दिखे।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।