alok verma

आखिरकार आलोक वर्मा ने तोड़ी अपनी चुप्पी, बताया अपने तबादले की असल वजह

53

नई दिल्ली। बीते दिनों सीबीआई विवाद पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सीवीसी के फैसले को पलट दिया था और आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजने के फैसले को रद्द कर दिया है।

अब इसी कड़ी में आलोक वर्मा ने एक बड़ा दावा किया है। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि उनका ट्रान्सफर उनके विरोध में रहने वाले एक व्यक्ति की ओर से लगाए गए झूठे, निराधार और फर्जी आरोपों के आधार पर किया गया है।

आपको बताते चले गुरुवार को PM नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली उच्चस्तरीय चयन समिति ने भ्रष्टाचार और कर्त्तव्य में लापरवाही बरतने के आरोप में अलोक वर्मा को पद से हटा दिया।

वहीं इस मामले को लेकर आखिरकार अलोक वर्मा ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि ‘‘इसे बाहरी दबावों के बगैर काम करना चाहिए। मैंने एजेंसी की अखंडता को बनाए रखने की पूरी कोशिश की, जबकि उसे बर्बाद करने की कोशिश की जा रही थी। इसे केंद्र सरकार और सीवीसी के 23 अक्टूबर, 2018 के आदेशों में देखा जा सकता है, जो बिना किसी अधिकार क्षेत्र के दिए गए थे और जिन्हें रद्द कर दिया गया।”