अपने ही आदेश के अनुपालन से मुकरे SDM, भ्रष्ट्राचार में लिप्त महकमा

corruption
Janmanchnews.com
Share this news...
Meenakshi Mishra
मीनाक्षी मिश्रा

अमेठी। वैसे तो योगी सरकार ने भ्रष्ट्र अधिकारियों पर नकेल कसने के लिये अनेकों प्रयास किया। अनेकों विभागों में पारदर्शिता लाने के लिये भरसक प्रयास किया जा रहा है, किंतु सपा सरकार का असर अधिकारियों के जहन से जाता नही दिख रहा है। ऐसे में विभागों में भ्रष्ट्राचार के खात्मे में के लिये अथक प्रयास की जरूरत है।

ताजा भ्रष्टतंत्र का मामला विधानसभा अमेठी का है। जहाँ पर बीते लंबे वक्त से जद्दोजहद कर रहा एक गरीब परिवार पैसे की हनक के आगे बिखरता नजर आ रहा है। और रिश्वतखोरी के आगे नियम कानून भी ताक पर रखने से माननीय गुरेज नहीं कर रहें। रिश्वतखोरी व चमचा गीरी के इस दौर में पीड़ित परिवार असहाय नजर आ रहा है।

दरअसल मामला विधानसभा अमेठी का है जहाँ पर ब्लॉक अमेठी का निवासी अशोक कुमार अपनी जमीन पर हो रहे अवैध कब्जे को लेकर एस डी एम के यहाँ गुहार लगाया। अशोक कुमार जो की ग्राम कोहरा का निवासी है उसका विवाद उसी गाँव के रामकरन चौबे से चल रहा है।

इसी के चलते बीते कुछ दिनों पूर्व रामकरन ने अशोक कुमार की पत्नी व नाबालिग बच्चियों को लोहे की रॉड से पीटते हुए सर फोड़ दिया। अशोक कुमार ने अपने सहन पर स्थित जमीन पर जिस पर उसने पुरानी दीवाल भी बना रखी थी को रामकरन जो जबर्दस्ती उसकी जमीन पर कब्जे का प्रयास कर रहा था से मुक्त कराने के लिये माननीय जिलाधिकारी महोदय के यहाँ प्रार्थना पत्र दिया।

जिसकी जांच एस डी एम अमेठी को सौंपी गई। एसडी एम ने नायाब तहसीलदार, कानून गो व लेखपाल की जांच रिपोर्ट के आधार पर पीड़ित को अपनी जमीन पर निर्माण का आदेश दिया। साथ ही पुलिस महकमे को निर्माण के वक्त शांति व्यवस्था कायम करने का आदेश भी दिया।

किन्तु भ्रष्ट्र तंत्र का आलम यह रहा कि विपक्षियों से पैसे खाकर अधिकारी अपने ही आदेश का अनुपालन कराने से मुकर गए। साथ ही उल्टा पीड़ित को ही अपनी जमीन का आधा भाग विपक्षी को देने के लिये धमकाने लगे। विपक्षी लगातार पीड़ित को घर छोड़ने व जमीन देने की धमकी देते हैं। ऐसे में योगी सरकार के भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम को अधिकारी बट्टा लगाते नजर आ रहे हैं।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।