Murder

रिश्ते हुए तार तार…रूपये के लिए साले ने किया जीजा की हत्या

62

पिता का चेहरा देख बोली बेटी-बाप का सहारा था वो भी चले गए…

संजय मिश्रा, 

बहराइच। बाप बड़ा न भईया, सबसे बड़ा रूपईया। ये कहावत बहराइच के हुजुरपुर थाना क्षेत्र में हुई घटना पर पूरी तरह चरितार्थ है। यहां पर सगे साले ने रिश्तों का कत्ल करते हुए अपने ही जीजा को रूपये के लेनदेन के विवाद को लेकर लाठियों से जमकर पीटा। जिनकी इलाज के दौरान जिला अस्पताल में मौत हो गई।

मौत के बाद घर में कोहराम मच गया। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। सूचना पर पहुँची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इस मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर एक आरोपी को धर दबोचा।

प्राप्त समाचार के अनुसार गोंडा जिले के कटरा बाजार थाना क्षेत्र के असरना गांव निवासी प्रमोद कुमार उपाध्याय (48) पुत्र रामदेव की ससुराल बहराइच के हुजूरपुर थाना इलाके के शीतलपुरवा खरगापुर में है। प्रमोद ने एक साल पहले अपने साले फूलचंद्र को एक लाख रुपये उधार दिया था। उसने एक माह के भीतर रुपये वापस कर देने का वादा किया था।

लेकिन फूलचंद्र ने रुपये नहीं लौटाए। इसके चलते साले-बहनोई के बीच रंजिश शुरू हो गयी। जनवरी माह में फूलचंद्र ने बेटे सतीश के साथ मिलकर बहनोई प्रमोद पर फायर झोंक दिया, लेकिन गोली उनके पिता रामदेव को लगी। 

रामदेव की तहरीर पर पुलिस ने केस दर्ज किया। जिसके बाद सतीश जेल में है। मामला कोर्ट में चल रहा है। प्रमोद मामले की सुनवाई के लिए सोमवार को बहराइच आये थे, देर शाम वे गोंडा अपने घर लौट रहे थे। लेकिन रास्ते मे फूलचंद्र ने अपने साथी के साथ मिलकर बहनोई प्रमोद पर हमला बोल दिया। हुजूरपुर क्षेत्र के चिरैयाटांड़ गांव के पास लाठी डंडो से पीटकर प्रमोद को अधमरा कर दिया। ग्रामीणों की सूचना पर एम्बुलेंस कर्मियों ने प्रमोद को सीएचसी चिरैया टांड़ पहुंचाया, लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया। यहां पर प्रमोद की मौत हो गयी। मृतक के चाचा राम स्वभाव ने थाने में तहरीर दी है। सूचना पर पहुची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

28 जून को की थी दो बेटियों की शादी…

मृतक के 7 बच्चें हैं। 6 बेटियां व एक लड़का है। जिनमें से दो बेटियां नेहा व हेमा की शादी बीते 28 जून को सम्पन्न हुई थी। मौत की खबर सुनते ही परिजनों में कोहराम मच गया। सभी का रो-रोकर बुरा हाल है।

पिता का चेहरा देख बोली बेटी-बाप का था सहारा वो भी चले गए।

बीती 28 तारीख को पिता ने बड़े अरमान से अपनी दो बेटियों की डोली उठाई थी। बेटी को शायद ये न पता था कि शादी के कुछ ही दिन बाद पिता उसको दुनियां में अकेले छोड़ जाएंगे। बेटी के हाथों की अभी मेंहदी भी न उतरी थी कि पिता के मौत की खबर आ गई। अपने पिता की मौत की खबर सुनते ही बड़ी बेटी नेहा बेहोश हो गई।

काफी देर बाद होश आने पर उसे अस्पताल के मर्चरी पर लाया गया। जैसे ही नेहा ने अपने पिता का चेहरा देखा वैसे ही फफक फफक कर और रोने लगी। और उसके मुंह से केवल एक ही शब्द निकल रहा था बाप का ही सहारा था वो भी चले गए। अब हम लोगो का इस दुनियां में कौन है। बताया जाता है कि मां की मौत 4 महीने पहले हो चुकी है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करें।