धड़ाधड़ एन्काउंटरों के साथ यूपी का क्राइम ग्रॉफ भी बना राकेट, दबंगों से तंग युवती नें लगाई फांसी

आत्महत्या
A 17 Years old ends her life when her modesty was tried to be raged...
Share this news...

घर में शौचालय न होने से बाहर गई किशोरी को पकड़ा दबंगों नें, शर्मसार किशोरी नें दे दी अपनी जान…

–ताबिश अहमद

फतेहपुर: एक तरफ उत्तरप्रदेश पुलिस एक के बाद एक अपराधियों का बिना कोर्ट कचहरी का झंझट वाले हमेशा के लिए निस्तारण करती जा रही है, लेकिन इससे अपराधियों के हौसले पस्त होनें की बजाये प्रदेश का आपराधिक आंकड़ा लगातार उपर होता जा रहा है। मतलब साफ है, एन्कांउटर का डर अपराधियों में नही है, उन्हे लगता है कि वो अपराध करके बच निकलेगें। इसकी बानगी फतेहपुर जिले में देेखनें को मिली।

सरकार घरो में शौचालय बनवाने से लेकर महिलाओ की सुरक्षा के दावे कर रही है लेकिन ये दावे हवा हवाई ही साबित हो रहे है। ताजा मामला फतेहपुर जिले के जहानाबाद थाना क्षेत्र के क्वोटरा गांव का है जहाँ घर मे शौचालय न होने पर जंगल गई किशोरी की इज्जत दांव पर लग गई।

सूत्रों के अनुसार दो युवकों ने उसके साथ दबंगई के बल पर इज्जत लूटने की तब कोशिश की जब वह बाहर शौच के लिए गयी थी। किशोरी किसी तरह से भाग कर घर आई और परिजनों को पूरी बात बतायी। इस घटना से वह इतनी शर्मसार हुई कि उसने मौत को गले लगा लिया।

पुलिस का दावा है दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। मामले में केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति का कहना है कि आरोपियों को या तो मौत की सजा दी जाये या फिर जेल की सलाखों में पूरी उम्र के लिए आरोपियों को रखा जाये।

फतेहपुर जिले के जहानाबाद थाना क्षेत्र के कस्बे से जुड़े क्योटरा गांव में रोते बिलखते इस परिवार नें बताया कि गांव के अधिकांश घरो में शौचालय नही है, जिससे लड़कियों को गांव के ही सिरफिरे दबंगो के बिगड़ैल बेटो से अपनी इज्जत बचा पाना मुश्किल हो रहा है।

गांव की लड़की अनामिका (काल्पनिक नाम) 17 जनवरी को घर के बाहर जंगल मे शौचक्रिया के लिए गई थी जहाँ दो दबंग युवको ने उसके साथ छेड़छाड़ की, किशोरी पहले से ही इन लड़कों से इतना तंग थी कि उसने दो साल से स्कूल जाना भी बंद कर दिया था।

घटना के बाद पुलिस ने किशोरी के मेडिकल कराया और मुकदमा भी दर्ज कर लिया। लेकिन किशोरी मेडिकल के बाद जब घर गई तो इतनी शर्मसार हुई कि वह अपनें घरवालो की नजरे नही मिला पा रही थी। बेइज्जती के कारण अवसाद का शिकार बनी किशोरी ने अपनें कमरे में फांसी लगाकर इहलीला समाप्त कर ली।  

इस घटना से परिवार में कोहराम मच गया फिलहाल पुलिस का दावा है कि आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। मौके पर पहुँची केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति नें साफ तौर पर कहा कि ऐसे लोग जेल तो जायेगें लेकिन फिर भी नही माने तो ऊपर जायेगे।

घटना में सबसे दुखद बात यह है कि इस परिवार में यदि शौचालय होता तो शायद किशोरी की जान बच जाती। सरकार का दावा है कि गाँव-गाँव में स्वच्छ भारत योजना के तहत हर घर में शौचालय बनवाये जा रहें हैं, इन दावों में सच्चाई होती तो किशोरी को मौत को गले नही लगाना पड़ता।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।