primary rudwaliya model school

शिक्षक दिवस पर विशेष: छुट्टियों में मोबाइल शिक्षा ग्रहण करते हैं यहां के नौनिहाल

59

सिम्पल मिश्रा की रिपोर्ट,

गोरखपुर (कुशीनगर)। शैक्षिक गुणवत्ता ठीक करने को सरकार नित नये प्रयोग कर रही है। शिक्षकों को तमाम तरह में गाइड लाइन दिए जा रहे हैं। बावजूद इसके स्थिति सुधारने का नाम नहीं ले रही है। मॉडल बनने की दौड़ में शामिल स्कूलों के शिक्षक भी उत्साहवर्धन और संसाधनों के अभाव में शिथिल पड़ने लगे हैं, लेकिन फाजिलनगर ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय रुदवलिया का नजारा कुछ और ही है।

Read this also…

अनंत चतुर्दशी 2017: जानिए अनंत चतुर्दशी के महत्व को

शैक्षिक गुणवत्ता बनाये रखने के लिये यहां कई तरह के प्रयोग अब भी जारी हैं। ‘शिक्षा-शिक्षक आपके द्वार’, जैसे कार्यक्रमों से छात्रों में ही नहीं बल्कि अभिभावकों में भी नौनिहालों की शिक्षा के प्रति विश्वास पैदा किया जा रहा है।

अभिभावकों के सामने बच्चों को पढ़ाया जाना, शिक्षा चौपाल में प्राथमिक विद्यालय के बच्चों संग निजी विद्यालयों के बच्चों का शामिल होना, अद्भुत है। छुट्टियों में मोबाइल शिक्षा के माध्यम से घर रहने वाले बच्चों और अभिभावकों से जुड़े रहने का प्रयास, शिक्षकों की मेहनत की कहानी कह रहा है। शिक्षकों का प्रयास अब शिक्षक दिवस की महत्ता को बढ़ा रहा है।

primary rudwaliya model school

File Photo: कुशीनगर के रुदवालिया का मॉडल प्राथमिक स्कूल

बच्चों को किया जाता है पर्यावरण के प्रति आगाह…

जनपद का यह मॉडल विद्यालय अपने सुंदर भौतिक परिवेश के लिए भी जाना जा रहा है। कपूर, हींग, शरीफा, महोगनी, सागौन, कदम्ब, पीपल सहित देशी विदेशी फूल पौधों और पेड़ों से हरा-भरा यह परिसर, नौनिहालों को पर्यावरण सुरक्षा के आगाह भिनकर रहा है।

चलता है स्मार्ट क्लास…

कम्प्यूटर और स्मार्ट क्लास की सुविधा से भी लैश यह मॉडल स्कूल नौनिहालों को हर तरह की आधुनिक और तकनीकी ज्ञान भी बंट रहा है। बच्चों संग अभिभावकों को भी भविष्य में आने वाले पर्यावरण संबंधी चिंताओं के प्रति आगाह भी कर रहा है। अभिभावकों से टेलीफोनिक संपर्क कर बच्चों की कमजोरियों और शिक्षा के प्रति पैदा हुए विश्वास की जानकारियां लेने वाले शिक्षक श्रेष्ठ बच्चों को पुरस्कृत भी कर रहे हैं।

primary rudwaliya model teacher2

Janmanchnews.com

खुद द्वारा जुटाए संसाधनों से कर रहे संघर्ष…

6 कान्वेंट विद्यालयों से घिरे इस विद्यालय में करीब चार सौ से अधिक बच्चे पंजीकृत हैं। विद्यालय के प्रधानाध्यापक सुनील त्रिपाठी अपने संसाधन से विद्यालय में कम्प्यूटर तथा स्मार्ट क्लास चलवा रहे हैं। प्रार्थना सभा मे होने वाला योग नौनिहालों को भारतीय संस्कृति और परंपराओं का ज्ञान दे रहा है तो पीटी, राष्ट्र मन्त्र, वन्देमातरम से इनमे राष्ट्रभाव जगाया जा रहा है।

सामान्य ज्ञान तथा शैक्षिक यात्रा के माध्यम से नौनिहालों को घुमक्कड़ी ज्ञान तो दिया ही जा रहा है, पर्यावरण को ध्यान में रखकर ग्रीन इंडिया की तर्ज पर विकसित हुआ यह विद्यालय क्षेत्रीय युवकों में यह सेल्फी प्वाइंट के रूप में मशहूर होने लगा है।

primary rudwaliya model teacher2

Janmanchnews.com

सप्ताह के दो दिन लगती है शिक्षा चौपाल…

प्रधनाध्यापक सुनील त्रिपाठी अपने सहयोगी शिक्षक सन्तोष प्रसाद को लेकर गांव में शिक्षा की अलख जागते हैं। सप्ताह में दो दिन ‘शिक्षा-शिक्षक आपके द्वार’ कार्यक्रम के तहत ‘शिक्षा चौपाल’ का आयोजन कर नौनिहालों में विश्वास पैदा कर रहे हैं। दरवाजे पर अभिभावकों के सामने बच्चों को दिया गया गृहकार्य या अन्य विषयों को पढ़कर शिक्षक के दायित्वों का निर्वहन कर रहे हैं।

पब्लिक स्कूलों की तरह होती हैं परीक्षाएं

यहां होने वाली त्रैमासिक, अर्द्धवार्षिक और वार्षिक परीक्षा पब्लिक स्कूलों की तरह ली जाती है। बच्चों में ‘हम किसी से कम नहीं’ का भाव जगाकर उनमे शिक्षा के प्रति लगाव का बीज अंकुरित किया जा रहा है। बाकायदा, डेस्क स्लिप, प्रवेश पत्र तथा सिटिंग प्लान से परीक्षा देने वाले बच्चे पढाई के साथ खेलों में भी अव्वल हैं।

Read this also…

गणेश विसर्जन के दौरान हुआ कुछ एेसा कि पूरे मोहल्ले में फैला मातम

बच्चों को दिया जाता है पौधों का उपहार

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर यहां के बच्चों को हर वर्ष दो-दो पौधों का उपहार दिया जाता। महापुरुषों और अपने प्रिय शिक्षक के नाम से नामकरण हुए इन पौधे को बच्चे अपने घरों या खेतों में लगाते हैं और बड़े होने तक उनकी देखभाल करते हैं।

बोले प्रधानाध्यापक

प्रधानाध्यापक सुनील त्रिपाठी का कहना है की यह सब कुछ अभिभावकों में परिषदीय विद्यालयों के प्रति विश्वास जगाने को किया जा रहा है। पौधों का उपहार देने के पीछे बच्चों में पर्यावरण के प्रति जागरूकता पैदा करने की कोशिश है। करने के लिए दिया जाता है।

primary rudwaliya model teacher2

Janmanchnews.com

खुशी है मुझे, स्कूल मेरे संरक्षण में है: खंड शिक्षा अधिकारी

इस सम्बंध में खण्ड शिक्षा अधिकारी फाजिलनगर विजय प्रकाश यादव ने कहा कि रुदवालिया के शिक्षकों का प्रयास मेरे संज्ञान में है। मुझे खुशी है विद्यालय मेरे संरक्षण में है। विद्यालय के शिक्षकों का प्रयास सराहनीय है।