किसान के बेटे को मिलेगा चक्रवती पदक

farmer
Janmanchnews.com
Share this news...
Rahul Yadav
राहुल यादव

रायबरेली (ऊंचाहार)। खेत सोना उगलता है तो किसान खुश होता है। किसान का बेटा यदि अच्छा कार्य करें तो सब आश्चर्य चकित आज के युग में होते हैं। ऊंचाहार ब्लाक के गांव पचखरा के एक किसान के बेटा ने कुछ ऐसा ही किया। जिससे उसके मेधावी होने के कारण ही उसको चक्रवती पदक से सम्मानित करने हेतु चुना गया है जिससे क्षेत्र ही नही जिला का नाम रोशन किया है।

जिला रायबरेली से 40 किलोमीटर दूर ऊंचाहार है। जहां से 8 किलोमीटर दूर गांव पचखरा है। जहां का निवासी प्रेमनारायन त्रिपाठी के पास महज साडे चार बीघा खेत है पेशे से वे किसान है जिनके यहां पत्नी सुधा के आलावा पुत्र कोमलनारायन त्रिपाठी, अलोक व पुत्री शिवानी है।जिनके शिक्षा-दिक्षा भी कृषि पर ही निर्धारित है। जिससे किसान अपने परिवार का खर्च व पालन पोषण भी करता है।

आप भी समझ गये होंगे कि इस महगाई के दौड़ में किस तरह से परिवार को चलाया जा सकता है। लेकिन इस किसान ने अपने बाजुओं के दमपर अपने खेती के मेडगोड करके बच्चों को शिक्षा बेहतर देने के लिये जो नजीर लिखी है वह वाकई में काबिले तारीफ है। क्योंकि बड़ा पुत्र लखनऊ में लखनऊ यूनवसिर्टी मे बीए व एम मे रक्षा अध्ययन विषय में यूनवसिर्टी टॉप किया है।

जिसको लेकर उसके मेधावी पना के कारण ही उसको डाक्टर चक्रवती पदक से पुरस्कृत करने के लिये चुना गया है। जिसको युवक ने कभी सपने मे नही सोचा था न ही किसान ने ये सोचा था कि मेरा बेटा इतना बडा नाम करेगा। हलांकि ये जहां किसान के मेहनत का पैसा का कमाल है तो वहीं किसान के मेहनत के पैसा को एक एक रूपये वसूलने के लिये उसने शिक्षा के प्रति कड़ी मेहनत भी किया है। हलांकि इस छात्र को शिक्षित करने के लिये कई लोगों के द्वारा चंदा तक लगवाया गया है।

जिसमें यदि उसके शिक्षा के प्रति बात करें तो सन् 2016 मे बीए मे 73.7 प्रतिशत मत लाकर यूनवसिर्टी को टाप किया था। जबकि एम एम प्रथम वर्ष में 73.6 प्रतिशत अंक पाकर यूनवसिर्टी टॉप किया था। जिसको लेकर एलयू में पिछले साल चांसलर्स सिल्वर मेडल जीता था। इस बार डॉ चक्रवती मेडल अपने नाम किया है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।