Illegal wine

खीरों क्षेत्र में धधक रही अवैध शराब की भट्टियां, धड़ल्ले से बिक रही शराब

66
Rahul Yadav

राहुल यादव

रायबरेलीः खीरों थाना क्षेत्र के कई गांवों में खुले आम शराब माफिया द्वारा अवैघ कच्ची शराब बनायी जा रही है। जिनकों संरक्षण स्थानीय पुलिस दे रही। इतना ही नहीं इसे बेचने के लिये खुले आम गांवों की बाजारों में बेचा जा रहा है।

वहीं स्थानीय प्रशासन मूक दर्शक बना बैठा है। पुलिस अपना कोरम पूरा करने के लिये कभी-कभी किसी को शराब की धाराओं में पाबन्द कर अधिकारियों की थपथपी ले लेते हैं। वहीं क्षेत्र में बन रही शराब से पियक्कड़ों की संख्या भी बढ रही है। इतना ही नहीं शराब पीकर सड़क पर हुड़दंग भी करते हैं लेकिन पुलिस शराबी कह कर छोड़ देती है।

बताते चलें कि क्षेत्र के कलुआ खेडा, मोहनपुर, अजीतपुर, जोगापुर, महरानीगंज, आदि दर्जनों जगहों पर बेशुमार अवैध कच्ची शराब की भट्टियां धधक रही है लेकिन स्थानीय पुलिस अपना हिस्सा ले लेती है। वहीं कभी-कभी आबकारी टीम भी आती है तो भी ये भट्टियां नहीं पकड़ी जाती है क्या़ें?

जिले के पुलिस कप्तान का अपने मतहतो को यह निर्देश है कि कहीं पर भी अवैध कच्ची शराब की बिक्री न हो और न बनायी जाये, लेकिन पुलिस अपने अधिकारी के आदेश को दरकिनार कर कोई कार्यवाही नहीं करती है, हां इतना जरूर होता है कि जब अधिकारियों का आदेश होता है तो एक दो लोगों पर अवैध कच्ची शराब में पाबन्द कर इतिश्री कर ली जाती है। जबकि यह सत्य है कि अगर स्थानीय पुलिस कार्यवाही करें तो शराब भट्टियों पर अंकुश लगेगा लेकिन स्थानीय पुलिस पता नहीं क्यों कार्यवाही नहीं करती है।

क्षेत्र की बाजारों में शराब की इस तरह मण्डी सजती है। जैसे कोई खास सामान बिक रहा हो। दिलचस्प बात यह है कि इसकी बिक्री के लिए या तो महिलाएं आती है या तो युवतियां आती है।

कस्बे से सटे शर्मा ईट उद्योग के पीछे बाग मे अवैध कच्ची शराब की बिक्री होती थी लेकिन गांव की महिलाओं ने जब पुलिस का रूख देख लिया तो खुद महिलाओं ने शराब कारोबारियों व शराबियों को खदेड़ा था, लेकिन अब फिर से शराब की बिक्री जोरो पर है। वहीं अगर आबकारी विभाग व पुलिस समय-समय पर कार्यवाही करती रहे तो अंकुश लग सकता है लेकिन ये अधिकारी पता नहीं कौन सी घड़ी का इंतजार कर रहे हैं।