7 माह बाद भी कई सवाल अंधेरे में, जली मिली लाश की नहीं हुई शिनाख्त

female Dead body
Janmanchnews.com
Share this news...
Mithiliesh Pathak
मिथिलेश पाठक

श्रावस्ती। औरतों को हम देवी का दर्जा देते हैं, लेकिन अफ़सोस। यह सिर्फ एक दिखावे की तरह मन्दिरों और हमारे पूजा घरों तक ही सीमित रह गया है। औरतों के साथ लगातार हो रही हिंसा इस बात का सबूत है कि देवी कही जाने वाली हमारी समाज की महिलाएं ऐसे कई दानवों से घिरी हुई हैं जो उनकी जिंदगी को जहन्नुम बना रहे हैं।

किसी को जिंदा जला दिया जाता है, तो किसी को फांसी से लटका दिया जाता है, किसी को पीट पीटकर मार डाला जाता है, तो किसी के साथ रेप और गैंगरेप किया जाता हैं। परन्तु उनको बचाने ऊपरवाला भी नही आता है। 

ऐसी न जाने कितनी दास्तानें होती हैं जो समय बीतने के साथ ही फाइलों में दफन हो जाती हैं, उनके साथ हुए अत्याचार और दर्द की दास्तान कभी उजागर भी नही हो पाते। यहां तक कि कुछ मामलों में तो मिली हुई लाश की पहचान तक नही हो पाती।

ऐसी ही एक सच्ची दास्तान पिछड़े माने जाने वाले तराई के श्रावस्ती जनपद की है। जहां पर करीब 7 माह पूर्व 28 मई की सुबह जब ग्रामीण सो कर उठे और नित्यक्रिया को घर से बाहर निकले तब सामने आई।

इकौना थाना छेत्र के “पाण्डेयपुरवा” गांव के कुछ दूर ग्रामीणों ने सड़क किनारे एक महिला उम्र लगभग 25 वर्ष की अधजली हुई लाश देखी। जिसका चेहरा और 80 पर्सेंट शरीर बुरी तरह जल चुका था। आनन फानन घटना की सूचना पुलिस को दी गयी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव का बारीकी से निरीक्षण किया तब उसे कारतूस के खोखे भी शव के पास से मिले, जिससे यह अंदाजा लगाया गया कि महिला को जलाने से पहले सम्भवतः उसे गोली मारी गयी और जब उड़की मौत हो गई तो उसकी पहचान और अपना जुर्म छिपाने की खातिर गुनाहगारों ने उसके शव को बेरहमी से ज्वलनशील पदार्थ डाल कर जला दिया। मौके पर पहुंचे नवागन्तुक ASP पीराम और फोरेंसिक टीम ने भी घटना स्थल की जांच की परन्तु कोई खास सफलता हाथ नही लगी।

कौन थी यह महिला, और क्यूं हुआ था उसके साथ यह दिल दहला देने वाला अपराध। इसका जबाब आज भी किसी के पास नही है। आखिरकार यह भी तो एक बेटी थी कोई न कोई इसके भी मां बाप पति रिश्तेदार आदि होंगे। क्या वे अपनी औलाद को भूल गए होंगे या आज भी वह अपने जिगर के टुकड़े को ढूंढ रहे होंगे ऐसे कई सवाल हैं जिनका कोई जबाब नही है।

हालांकि इकौना पुलिस, क्राइम ब्रांच और फोरेन्सिक टीम ने काफी प्रयास किया परन्तु सफ़लता हाथ नही लगी। घटना के इतने दिन बाद भी न तो महिला की पहचान हो पाई और न ही अपराधी ही पकड़ में आये हैं। अब देखना यह होगा कि क्या भविष्य में इन सवालों से कभी पर्दा उठ पायेगा या नहीं।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।