कुदरत की मार से अन्नदाता बेहाल, पूरे प्रदेश में ओलावृष्टि और बारिश, मुख्यमंत्री ने दिया सहायता का आश्वासन

Vidisha
Janmanchnews.com
Share this news...
Saurav Saxena
सौरव सक्सेना

विदिशा। इलाके भर में हुई बारिश और ओलावृष्टि ने रात-रात भर जागकर पानी से सींचकर फसलों को पालते-पोसते और खेत से खलियान तक पहुँचने की राह देखने वाले अन्नदाता की मेहनत और उम्मीदों पर कुदरत ने एक बार फिर कहर बरसाना आरंभ कर दिया है।

कई ग्रामों में बारिश के साथ हुई ओलावृष्टि से फसलें प्रभावित होने की खबरे प्राप्त हुई है। ग्रामों से मिली जानकारी के अनुसार कई ग्रामों में बेर, आंवला के आकर के ओले गिर गए है। जिससे किसानों के खेत मे रबी की चना, मसूर, तेवड़ा, वटरी की पकी हुई फसलें प्रभावित हो गई है तो वही गेंहू की फसलें आड़ी हो चुकी है। 

नेहरू युवा केन्द्र के नटेरन ब्लॉक प्रभारी सत्यम यादव ने बताया कि ग्राम पिपलधार मे उनके खेतों में फसल पककर तैयार खड़ी है, जिससे खेतो में कटाई गहाई का कार्य चल रहा है। आज शाम को करीब 5 मिनिट तक सिर्फ आंवला के आकर के ओलों की बरसात से फसलों को भारी नुकसान हो गया है। ऐसा ही आलम गुलाबगंज मे ग्राम अंडिया मे तेज बारिश के साथ ओले भी गिरे।

इतना तो है पक्का है कि कुदरत की इस मार से रात-रात भर जागकर फसलों को पानी से सींच और पाल-पोसकर खेत से खलियानो तक आने की राह देखने वाले अन्नदाता पर तो मानो पहाड़ सा टूट गया है।आज जिन ग्राम में पानी और ओले गिरने की जानकारी प्राप्त हुई है उनमें ग्राम बड़वासा, झिलीपुर कुल्हार, पवई, कमलपुर, हिननोदा, माधोपुर, देरखी, फरीदपुर डायला, ककरावदा परसौरा, राऊखेडी इत्यादि कई ग्राम है।

बारिश के साथ हुई ओलावृष्टि की जानकारी प्राप्त होने पर बासौदा विधानसभा के पूर्व विधायक हरिसिंह रघुवंशी, एसडीएम सीपी गौहल एवं तहसीलदार डॉ निधि वर्मा ने ग्राम फरीदपुर, पवई, ककरावदा में पहुँचकर प्रभावित फसलों का जायजा लिया और किसानों की प्रभावित हुई फसलों का पटवारी से सर्वे उपरांत हर संभव सहायता दिलवाने का आश्वासन अन्नदाताओं को दिया है।

Share this news...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फॉलो करें।