lalu and rahul gandhi

सवर्ण आरक्षण मुद्दे पर कांग्रेस-राजद के क्यों है अलग-अलग विचार? जानिए पूरा मामला

102

पटना। जनरल कोटा बिल लोकसभा और राज्यसभा में पास हो गया। एक तरफ कांग्रेस ने जहां इस बिल का समर्थन किया, तो वहीं राजद ने इसका विरोध जताया।

अब ऐसे में यह कहा जा रहा है कि आगामी लोकसभा चुनाव में इसका सीधा असर देखने को मिल सकता है। दरअसल, सवर्ण आरक्षण को लेकर कांग्रेस के साथ महागठबंधन के अन्य दल दुविधा में पड़ चुकी है।

आपको बताते चले यह माना जा रहा है कि राजद ने इसका विरोध कर के अपने पुराने वोट बैंक को खुश करने का दाव चला है, जिसे अब उनके साथी दल सहमत नहीं दिख रहे है।

दूसरी तरफ अब कांग्रेस सवर्णों के आधार पर बिहार में अपना जनाधार बनाने में जुटी है। अब ऐसे में कांग्रेस के सामने बड़ी चुनौती है कि वो अपने साथी दल राजद के साथ कैसे पेश आये।

इसके आलावा महागठबंधन के साथी ‘हम’ ने भी आरक्षण के मुद्दे पर अपना समर्थन दिया है। इस मुद्दे को लेकर बिहार कांग्रेस अभियान समिति के अध्यक्ष अखिलेश प्रसाद सिंह का कहना है कि कांग्रेस-राजद की विचारधारा अलग-अलग है। हमारी गठबंधन अपनी शर्तों पर हुआ है। 

मगर कांग्रेस हैरान है कि आखिर 2014 के लोकसभा चुनाव के घोषणा पत्र में गरीब सवर्णों के लिए भी 10 फीसद आरक्षण की वकालत करने वाले लालू अब इसका विरोध क्यों कर रहे है?