BREAKING NEWS
Search

अनारकली आॅफ आरा देश भर में 24 मार्च को हो रही है रिलीज

565

नई दिल्ली। अनारकली आॅफ आरा देश भर में 24 मार्च को रिलीज हो रही है। नील बट्टे सन्नाटा के बाद स्वरा भास्कर की यह महत्वाकांक्षी सोलो फिल्म है। प्रोमोडोम कम्युनिकेशन्स के बैनर तले बनी इस फिल्म में स्वरा ने एक सड़क छाप गायिका का किरदार निभाया है।

इस फिल्म का निर्देशन किया है अविनाश दास ने। अनारकली की कहानी भी उन्होंने ही लिखी है। इससे पहले अविनाश दास प्रिंट और टीवी के पत्रकार रहे हैं। उन्होंने आमिर खान की सत्यमेव जयते के लिए भी रिपोर्टिंग की है। अनारकली में स्वरा भास्कर के अलावा संजय मिश्रा, पंकज त्रिपाठी और इश्तियाक खान महत्वपूर्ण भूमिकाओं में हैं। फिल्म का अनोखा संगीत रचा है रोहित शर्मा ने, जिन्होंने शिप आॅफ थिसियस में भी संगीत दिया था।

2017 की सबसे संभावनाशील फिल्मों की सूची अगर बनाएं तो उसमें ये फिल्म जरूर शामिल होगी। इसका टाइटल पहले ‘अनारकली आरावाली’ रखा गया था। अब जब ये बनकर रिलीज के लिए तैयार है तो नया नाम रखा गया है – ‘अनारकली ऑफ आरा’janmanchnews.com
ये फिल्म एक सोशल म्यूजिकल ड्रामा है और अपने विषय के कारण चर्चा में रहेगी। कहानी अनारकली नाम की देसी गायिका की है जो ‘अश्लील’ गाने गाती है। वो बिहार की राजधानी पटना से चालीस किलोमीटर दूर आरा शहर की रहने वाली है। मेलों, ठेलों, शादी-ब्‍याह और स्‍थानीय आयोजनों में गानों की परफॉर्मेंस देती है। फिर उसकी जिंदगी में कुछ ऐसा घटता है कि अनारकली की लाइफ उजाड़पन, डर और विस्‍थापन के कोलाज में बदल जाती है।janmanchnews.com
फिल्म में स्वरा भास्कर अनारकली के केंद्रीय रोल में हैं। स्वरा ने ‘तनु वेड्स मनु’, ‘राझंणा’, ‘तनु वेड्स मनु रिटर्न्स’, ‘प्रेम रतन धन पायो’ जैसी लोकप्रिय फिल्मों में अहम रोल कर चुकी हैं। पिछले साल उनकी बहुत जोरदार फिल्म ‘निल बट्टे सन्नाटा’ आई थी जो 2016 की बेस्ट फिल्मों में गिनी गई। 2017 में ‘अनारकली ऑफ आरा’ के अलावा स्वरा की फिल्म ‘वीरे दी वेडिंग’ भी आनी प्रस्तावित है जो पूरी तरह महिला पात्रों पर केंद्रित है। उनके अलावा सोनम कपूर और करीना कपूर भी इसमें लीड रोल में होंगी। ‘अनारकली..’ में संजय मिश्रा, पंकज त्रिपाठी जैसे जबरदस्त एक्टर्स भी हैं जिनकी फैन फॉलोइंग बहुत बढ़ चुकी है.janmanchnews.com

अनारकली के गीत लोगों के मन के दबे हुए तार छेड़ते हैं। उसे सुनने वाले उस पर फिदा हो जाना चाहते हैं और अनारकली अपने प्रति लोगों की दीवानगी को अपनी संगीत यात्रा में भड़काती चलती है।

उसके प्रेम का अपना अतीत है और सेक्‍स पर समझदारी के मामले में रूढ़ीवादी भी नहीं है। इतनी खुली शख्सियत के बावजूद उसके पास एक आत्‍मसम्‍मान है, जिसका एहसास वह कई मौकों पर सामने वाले को कराती भी रहती है।

उसके अपने तेवर हैं, जिसमें जमाने की परवाह नहीं है, लेकिन रिश्‍तों के मामले में संवेदनशील भी है। फिल्‍म में उसके इर्द-गिर्द पांच लोग हैं – जो उसके प्रेम के एक ही धागे में बंधे हैं। सब अपनी अपनी तरह से अनारकली को प्रेम करते हैं।

लेकिन आखिर में अनारकली को अकेले ही अपने रास्‍ते पर जाना है और वही होता है। पूरी कहानी में कठिन से कठिन मौकों पर उसकी आंखें आंसू नहीं बहती और बाहर की उदासी को वह अपनी हिम्‍मत से खत्‍म करने की कोशिश करती है। अनारकली एक ऐसा किरदार है, जो हिंदी सिनेमा में अब तक नहीं आया है।