BREAKING NEWS
Search

कृत्रिम किडनी का हुआ अविष्कार

999

कीर्ति माला,

चेन्नई। हर साल लाखों लोग किसी-न-किसी बीमारी से मरते है। किसी बीमारी का इलाज संभव है तो किसी का नही। तो ऐसे मे किसी/न-किसी कारण से लोग मर रहे है। ऐसी हालात से बचने के लिए किडनी की बीमारी से जूझ रहे मरीजों के लिए एक अच्छी खबर है। इस वक्त दुनियाभर में लाखों मरीज किडनीकी बीमारी से ग्रसित हैं।janmanchnews.com

उन्हें या तो आए दिन अस्पताल जाकर डायलिसिस कराना पड़ता है या फिर किडनी प्रत्यारोपण की आवश्यकता होती है। लेकिन, मांग की अपेक्षा किडनी की पूर्ती बहुत कम होने से लाखों लोग हर साल बेवक्त इस दुनिया से कूच कर जाते है। लेकिन ऐसे लोगों को अब इन समस्याओं से जल्द ही निजात मिलने वाली है। दरअसल, वैज्ञानिक लोगों की इसी परेशानी को देखते हुए कृत्रिम किडनी बनाने में जुटे थे, जो अब कामयाब हो चुके हैं। अमरीका में फिलहाल इसका मरीजों पर ट्रायल किया जा रहा है।

वैज्ञानिक कृत्रिम किडनी को बाजार में उतारने से पहले उसकी सुरक्षा और क्षमता की पूरी जानकारी हासिल करने में जुटे हैं। भारत में हर साल 2.5 लाख लोगों की किडनी की बीमारी से मौत हो जाती है। बीमारी के आखिरी चरण में पहुंचने के बाद डायलिसिस या किडनी ट्रांसप्लांट का विकल्प ही बचता है। जो बहुत ही खर्चीला है। जो हर किसी के बस की बात नही होती है। इस कृत्रिम किडनी के अविष्कारक भारतीय मूल के ही हैं।भारतीय मूल के वैज्ञानिक और यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया सैन फ्रांसिस्को के रिसर्चर डॉ. शुभो रॉय इसके सह आविष्कारक हैं। चेन्नई में टैंकर एनुअल चैरिटी एंड अवॉर्ड्स में भाग लेने आए थे मि. रॉय ने यह जानकारी उसी दौरान दी। उन्होंने बताया कि ट्रायल में खरा उतरने के बाद अमरीका का फेडरल ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) से इस मशीन को मंजूरी मिलने के बाद यह कृत्रिम किडनी बाजार में आ जाएगी।janmanchnews.comऐसे होगा प्रत्यारोपण

डॉक्टर रॉय के मुताबिक  इस मशीन को पेट के भीतर लगाया जाएगा। मशीन को ऊर्जा दिल से मिलेगी। कृत्रिम किडनी रक्त को साफ करेगी, हार्मोंस को नियंत्रित करेगी और ब्लड प्रेशर को काबू करने में भी मदद करेगी।

डायलिसिस से सस्ती व कारगर होगी ये कृत्रिम किडनी

सूत्रों से पूछे जाने पर भी डॉक्टर रॉय ने कृत्रिम किडनी की कीमत के बारे में तो अभी कुछ  नहीं बताया, लेकिन उन्होंने कहा कि यह कृत्रिम किडनी परंपरागत डायलिसिस के तुलना में किडनी का काम ज्यादा बेहतर तरीके से करेगी और यह सामान्य डायलिसिस और ट्रांसप्लांट से काफी सस्ती होगी।जिससे आम लोग भी लाभान्वित होगें। और बेवक्त मौत से भी मुक्त हो जाएगें।और अपनी अनमोल जिंदगी अपने परिवार के साथ गुजार पाएंगे।