BREAKING NEWS
Search
Group marriage

शादी की बन्धन में बंधे 140 जोड़ें, एक युवक ने सामूहिक शादी करने से किया इंकार

425
Mithiliesh Pathak

मिथिलेश पाठक

श्रावस्ती। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अंतर्गत आज जिला मुख्यालय पर 140 जोड़ों का विवाह और निकाह हुआ सम्पन्न। जोड़ों को योजना का मिला लाभ। विधिविधान से हुई शाफ़ई और निकाह। लोगों ने अपनी तरफ से उपहार देकर नवविवाहित जोड़ों का किया सम्मान।

हिन्दू रीति रिवाज में सबसे बड़ा दान कन्यादान माना गया है, जिसका वर्णन ग्रन्थों में भी किया गया है। पुराने समय में भी कन्यादान को बड़ा महत्व माना गया है। गरीबी के चलते आज के आधुनिक युग में गरीब मां बाप के लिए मुख्यमंत्री की सामूहिक विवाह योजना उन गरीब माँ बापों के लिए कल्याणकारी सौग़ात है जो कन्यादान जैसा दान कर विवाह नही सम्पन्न करा पा रहे थे।

इस योजना में शादी का सारा खर्च जिला प्रशासन तो उठाता ही है साथ ही विवाह के समय ही उन्हें गृहस्थी का सामान भी उपलब्ध कराया जाता है। साथ ही सांसद, विधायक और समारोह में शामिल हुए गणमान्य लोग उपहार आदि भी प्रदान करते हैं।

परन्तु लाभ के साथ इस योजना का दुरुपयोग भी सामने आने लगा है, कई ऐसे जोड़ों की चन्द पैसों की लालच में दुबारा शादी कराई जा रही है, जो पहले से ही शादी-शुदा हैं और योजना का लाभ पाने के लिए मिलीभगत कर दुबारा शादी कर रहे हैं। कुछ जिलों में तो जेवर आदि भी नकली देकर अधिकारियों ने जमकर चांदी काटी है।

शादी समारोह में पैसों का लालच देकर लाया गया एक युवक शादी समारोह से फरार हो गया। उसने बताया कि अभी उसकी उम्र मात्र 19 साल ही है। जबकि सरकारी नियमों में वर की आयु शादी के लिए 21 वर्ष होनी चाहिए। वह शादी तो करेगा पर उसे सार्वजनिक शादी मंजूर नहीं है।

बलरामपुर जिले के रहने वाले इस युवक को आधार कार्ड आदि के साथ यहां पर बुलाया गया था। जब वह पहुंचा तो लोग दूल्हा दुल्हन का कपड़ा पहन कर तैयार हो रहे थे जिसे देखकर उसने शादी के लिए साफ जबाब दे दिया।