patna drainage

9 बड़े नालों से हटेगा अतिक्रमण 13 से विशेष अभियान, टूटेंगे पक्के मकान

134

Patna: राजधानी में सितंबर के आखिर में हुए भीषण जलजमाव के बाद स्थिति में सुधार के लिए कवायद शुरू हो गई है। राजधानी से जलनिकासी की लाइफलाइन माने जाने वाले 9 बड़े नाले अतिक्रमण की चपेट में हैं। इस बार के जलजमाव के बाद इन नालों के बहाव की समीक्षा में भयावह स्थिति सामने आई है। लोगों ने अपने फायदे के लिए नालों का बहाव ही बाधित कर दिया। राजधानीवासियों को हुई तकलीफ को देखते हुए सरकार ने नालों की सफाई का आदेश दिया था।

प्रमंडलीय आयुक्त संजय अग्रवाल ने अगले हफ्ते से जिला प्रशासन को प्रमुख नालों से अतिक्रमण हटाने के लिए विशेष अभियान चलाने को कहा है। इस दौरान बादशाही नाला पर बने 84 कच्चे-पक्के मकान भी तोड़े जाएंगे। जिला प्रशासन जल संसाधन विभाग, बुडको व नगर निगम के साथ मिलकर नालों के अतिक्रमण को हटाएगा। नगर विकास विभाग अभियान की मॉनिटरिंग करेगा। ड्रोन से सभी 9 बड़े नालों की फोटोग्राफी कराई जा रही है। देखा जा रहा है कि अतिक्रमण कहां-कहां है। आयुक्त ने कहा कि लोगों को अगली बरसात में दिक्कत न हो, इसके लिए अभी से काम करना होगा। मालूम हो, आयुक्त ने छठ से पहले बादशाही नाला का पैदल निरीक्षण किया था और कई स्थानों पर पक्के निर्माण को देखने के बाद कार्रवाई का निर्देश दिया था।

बादशाही नाला पर बने हैं 84 घर, बाधा डालने वालों पर होगा केस
अतिक्रमण हटाने को विशेष अभियान दो चरणों में चलेगा। पहला चरण 13 से 20 नवंबर तक व दूसरा चरण 29 व 30 नवंबर को चलाया जाएगा। डीएम कुमार रवि ने गुरुवार को विशेष बैठक में अधिकारियों को नालों की फुट पेट्रोलिंग कर अतिक्रमण की जानकारी लेने को कहा। पटना सदर के आठ नालों का सर्वे किया जाएगा। नाला के किनारे रास्ता बनाया गया है तो उसे भी अतिक्रमण माना जाएगा। निजी रास्ता, ढलाई या पुलिया बनी है, तो उसे भी तोड़ा जाएगा। डीएम ने निर्देश दिया कि सभी अतिक्रमित स्थलों-मकानों पर लाल निशान लगाया जाए। कार्रवाई के पहले मकान मालिकों को नोटिस दी जाए। लाउडस्पीकर से घोषणा हो। ऐसे सभी नालों जिस पर निजी भवन बनाए गए हैं, उसे पहले चिह्नित किया जाए। सदर अंचल के नालों का सर्वे एसडीओ के नेतृत्व में किया जाएगा। बाधा डालने वालों पर केस होगा।

बादशाही नाला की रिपोर्ट में अतिक्रमण का हुआ खुलासा
डीएम की बैठक में पटना सदर के सीओ ने बादशाही नाला के निरीक्षण की रिपोर्ट दी। बताया कि नंदलाल छपरा में नाला के आधा किमी की मापी में पांच पक्के मकानों द्वारा अतिक्रमण पाया गया। संपतचक के सीओ को 2 किमी नाले के सर्वे में 19 पक्के मकान अतिक्रमित मिले। फुलवारी में 60 कच्चे-पक्के मकान नालों पर बने मिले।

छह टीमें बनेंगी, इंजीनियर की निगरानी में होगी नाला उड़ाही
अतिक्रमण हटाने को जिला स्तर पर छह टीमें बनेंगी। पटना सदर अंचल में तीन, संपतचक में दो और फुलवारीशरीफ में एक टीम को जिम्मेदारी दी जाएगी। डीएम ने नालों की उड़ाही का काम किसी इंजीनियर की निगरानी में कराने का निर्देश दिया है। एसडीओ व डीसीएलआर को निर्देश दिया है कि वे अपने अनुमंडल में पर्यवेक्षण करेंगे।

इन नालों से हटेगा अतिक्रमण

  • बादशाही नाला
  • सैदपुर नाला
  • योगीपुर नाला
  • बाइपास नाला
  • मंदिरी नाला
  • सरपेंटाइन नाला
  • आनंदपुरी नाला
  • पटेल नगर नाला
  • आशियाना नाला
  • पटेल नगर नाला

TAG