BREAKING NEWS
Search
Swami chakrapani and vir savarkar

कांग्रेस सेवादल की बुकलेट ‘वीर सावरकर: कितने वीर’ पर मचा बवाल, भाजपा ने जताई आपत्ति

355

New Delhi: स्‍वतंत्रता सेनानी विनायक दामोदर सावरकर पर कांग्रेस बुकलेट के जरिए लगाए गए आरोपों के बाद घमासान शुरू हो गया है। भाजपा की ओर से इसपर कड़ी आपत्ति जताई गई है साथ ही यह भी कहा गया है कि कांग्रेस को अपने देश के इतिहास व महापुरुषों के बारे में कोई जानकारी नहीं। इस क्रम में अखिल भारतीय हिंदू महासभा के अध्‍यक्ष स्‍वामी चक्रपाणि ने शुक्रवार को कांग्रेस सेवादल के बुकलेट ‘वीर सावरकर: कितने वीर’ में लगाए गए आरोप को अभद्र करार दिया है। उन्‍होंने कहा, ‘पूर्व अध्‍यक्ष सावरकर जी के खिलाफ लगाए गए आरोप पूरी तरह घटिया हैं।’ साथ ही उन्‍होंने यह भी कह दिया कि इसी तरह की बातें हमने राहुल गांधी के बारे में भी सुना है।

बेशुमार आरोपों वाली बुकलेट ने शुरू किया विवाद

दरअसल, गुरुवार को मध्‍यप्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित बैरागढ़ में कांग्रेस सेवादल के दस दिवसीय राष्‍ट्रीय प्रशिक्षण शिविर में बुकलेट बांटी गई। इसमें वीर सावरकर और राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ पर कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं। इसमें राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे तथा वीर विनायक सावरकर को लेकर अभद्र टिप्‍पणी की गई है।

शिवसेना ने बताया- दिमाग की गंदगी

सबसे पहले बुकलेट में लगाए गए आरोप का शिवसेना ने खंडन किया और कहा कि इससे दिमाग में भरी गंदगी का पता चलता है। बता दें कि महाराष्‍ट्र की सत्‍तारूढ़ सरकार में कांग्रेस की भागीदार शिवसेना है। इसपर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, ‘वीर सावरकर महान व्यक्ति थे, और हमेशा महान रहेंगे। एक वर्ग उनके खिलाफ बातें करता रहता है, चाहे वह कोई भी हो, लेकिन इससे उनके दिमाग की गंदगी का पता चलता है।’

कई पुस्‍तकों का है हवाला

बुकलेट में कई पुस्‍तकों के हवाले से इस तरह के कई दावे किए गए हैं। इसमें डॉमिनिक लैपिएर और लैरी कॉलिन की किताब ‘फ्रीडम एट मिडनाइट’ का जिक्र है। इसके अलावा वीर सावरकर पर और भी कई आरोप हैं। एक आरोप यह भी है कि 12 साल की उम्र में सावरकर ने मस्जिद पर पत्थर फेंका और टाइल तोड़ दी थी। साथ ही वे दुष्‍कर्म को न्‍यायसंगत राजनीतिक हथियार बताते थे। इसमें सावरकर की पुस्‍तक ‘सिक्स ग्लोरियस एपोक्स ऑफ इंडियन हिस्ट्री’ का भी उनके खिलाफ जिक्र किया गया है। यहां तक कि बुकलेट में देवी-देवताओं को भी नहीं बख्‍शा गया। रावण द्वारा सीता के अपहरण को भी लेकर सावरकर को लक्ष्‍य बनाया गया है।

सावरकर पर लगाए गए बेशुमार आरोप

इसके अलावा बुकलेट में द्वितीय विश्वयुद्ध का भी जिक्र है। इसमें लिखा गया है कि सुभाष चंद्र बोस जब विदेशी सहायता के लिए मार्ग प्रशस्‍त कर रहे थे तब सावरकर ने अंग्रेजों के सामने सैन्य सहयोग का ऑफर दिया था। इसे लेकर बिफरी भाजपा ने कांग्रेस पर तीखा हमला बोला। भाजपा ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि यह पार्टी देश के इतिहास और महापुरुषों से अवगत नहीं है।