Aditya super 50

आदित्य सुपर-50 के छात्रों ने मैट्रिक की परीक्षा में बांका जिला में लहराया अपना परचम

306

आदित्य सुपर-50 के 50 में से 42 बच्चों ने पाया प्रथम श्रेणी…

Lalit Kishor

ललित किशोर कुमार

बांका- गरीब तथा जरूरतमंद बच्चों को नि:शुल्क मैट्रिक की परीक्षा की तैयारी कराने के लिए सम्पूर्ण जिला में चर्चित आदित्य सुपर-50 ने इस वर्ष मैट्रिक की वार्षिक परीक्षा में एकबार फिर परचम लहराया है. इस वर्ष सुपर-50  के 50 में से 42 बच्चों ने प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण पाई है.

शनिवार को मैट्रिक परीक्षा की परिणाम घोषित होने के बाद सुपर 50 के संस्थापक और युवा समाजसेवी ललित किशोर कुमार ने कहा है कि अब सुपर 50 का आकार और भी बड़ा किया जाएगा. नतीजों के बाद अपनी प्रतिक्रिया देते हुए ललित किशोर कुमार ने कहा कि यह बच्चों की निरंतर मेहनत का नतीजा है कि उन्होंने मैट्रिक परीक्षा में जबरदस्त सफलता हासिल की है.

उन्होंने कहा कि सफल छात्रों में शामिल बच्चे समाज के उस अंतिम पायदन पर खड़े थे. जहां विकास और चमक -दमक की पहुंच नहीं है. घोर अभाव और पिछड़ेपन में रहे इन बच्चों की सफलता बेहद महत्वपूर्ण और रोमांचित करने वाली है. उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है. जब सुपर 50 के आकार को बड़ा किया जाए.

उन्होंने कहा कि वे जिला के अलग-अलग हिस्सों में इसके लिए जल्दी ही एक जांच परीक्षा आयोजित करेंगे. जिसकी जानकारी अखबारों में दी जाऐगी. उल्लेखनीय है कि आदित्य सुपर 50 नि:शुल्क कोचिंग शिक्षा केन्द्र के द्वारा युवा समाजसेवी ललित किशोर कुमार विगत नौ सालों से दो गरीब, कमजोर, पीड़ित, असहाय, लाचार तथा जरूरतमंद बच्चों को मुफ्त में शिक्षा देने का काम कर रहे हैं.

जहां किसी भी प्रकार से कोई शुल्क नहीं ले रहे हैं। ललित किशोर कुमार के द्वारा अबतक सात हजार से भी ज्यादा गरीब तथा जरूरतमंद बच्चों को शिक्षा प्राप्त करने के लिए अभियान चलाकर विद्यालय से जोड़ चूकें है. बांका जिला में आदित्य सुपर-50 के प्रथम वर्ष के सिर्फ दो महिने की तैयारी में सुपर-50 के सभी बच्चों जबरदस्त सफलता पाई है.

ज्ञात हो कि ललित किशोर कुमार के द्वारा वैसे बच्चों को पढाया गया जो पैसे की अभाव में ट्यूशन फी नहीं दे सकतें थे और वह बेहद गरीब परिवार से आते हैं जिनके माता-पिता मजदूरी के काम करते हैं. जो बच्चे फ़ेल करने वाले थे उन 50 में 50 बच्चों पढ़ाकर ललित किशोर कुमार ने बांका जिला सहित सम्पूर्ण बिहार में शिक्षा के प्रति अलख जगा दिया.

Aditya super 50 student

Janmanchnews.com

आज के इस युग में सभी युवा और लोग पढ़ाई करके एक अच्छी सी नौकरी और बेहतर जिन्दगी जिना चाहते हैं. लेकिन, ललित किशोर कुमार विगत आठ सालों से गरीब बच्चों को मुफ्त में शिक्षा देने का काम कर रहे है.

गौरतलब है कि आदित्य सुपर-50 के द्वारा गरीब परिवारों के 50 बच्चों का चयन किया जाता है और उन्हें कोचिंग, काॅपी, कलम, किताब तथा अन्य सामग्री चंदा एकत्रित करके सब कुछ वितरण कर रहे हैं, ताकि कोई भी गरीब तथा जरूरतमंद बच्चों को पढ़ाई में दिक्कत न हो.

इस कार्य में ललित पूरे दिन गरीब तथा जरूरतमंद बच्चों और लोगों के लिए कुछ न कुछ एकत्रित करते रहते हैं. ललित किशोर कुमार ने बताया कि आज तक कोई भी सरकारी फंड और नहीं कोई सरकारी सहायता अबतक मिली है.

इन्हीं खासियतों के कारण ललित किशोर कुमार को देश की पहला सामाजिक सरोकार कार्य के क्षेत्र में राष्ट्रीय पुरस्कार सम्मान एंड सल्लाम अवार्ड से झारखंड के राज्यपाल श्रीमति द्रौपदी मुर्मू जी के द्वारा सम्मानित किया गया और अन्तर्राष्ट्रीय अवार्ड से सम्मानित किया गया.

साथ ही साथ राष्ट्रीय शिफा सोशल अवार्ड, राष्ट्रीय आदित्य अवार्ड,राष्ट्रीय आदित्य पूजा अवार्ड, राष्ट्रीय यंग बेस्ट टीचर अवार्ड, राष्ट्रीय मानव सेवा अवार्ड सहित अन्य राष्ट्रीय तथा राजकीय सम्मान से सम्मानित किया.

प्रथम श्रेणी में सबसे ज्यादा नंबर लाने वाले छात्र और छात्राएं ने नाम इस प्रकार है :-

प्रितम आनंद 394, आशु कुमार सिंह 419, राजु कुमार सिंह 320, सोनाली कुमारी 423, रिमझिम कुमारी, सुप्रिया कुमारी, आकाश कुमार, अन्नु कुमारी, रामानंद कुमार 382, शिवानी कुमारी, सूर्यांशु कुमार, अनमोल प्रिया, खुशी कुमारी, अभिजीत कुमार, आक्सा खातुन, प्रेरणा कुमारी, विष्णु कुमार सहित 42 बच्चे प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण किया.