BREAKING NEWS
Search
CM shivraj

आखिर शिवराज ने प्रदेश ऐसा क्या किया था कि आज भी लोगों में उनकी लोकप्रियता है बरकरार

367

भोपाल। MP चुनाव को लेकर इन दिनों CM शिवराज सिंह लगातार चुनाव प्रचार कर रहे है। शिवराज सिंह लगातर चौथी बार प्रदेश में CM का रिकॉर्ड बनाने की कोशिश में लगे है। इस बार कांग्रेस भी सत्ता में आने लिए पूरी कोशिश में लगी हुई है। वहीं कांग्रेस इस बार यह दावा भी कर रही है कि इस बार वो MP से शिवराज सरकार का सफाया कर देगी।

मगर आखिर ऐसा क्या है कि शिवराज सिंह प्रदेश में हमेशा सरकार बना लेते है। राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि शिवराज सिंह चौहान की विनम्रता ही उनकी सबसे बड़ी ताकत है। शिवराज सिंह चौहान के बारे में कहा जाता है कि उनको किसी ने आज तक गुस्से में नहीं देखा।

वह हर स्थिति में सहज रहते हैं। वह सीएम होते हुए भी धार्मिक कार्यक्रमों में माइक लेकर भजन गाने लगते हैं। व्यापमं जैसे घोटाले में गंभीर आरोप लगने के बाद भी वह विचलिच नहीं आते हैं।

आपको बताते चले शिवराज सिंह को अपने राजनीतिक जीवन में एक बार हार मिली है। उन्हें 2003 में राघोपुर सीट से कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह के सामने खड़े हुए थे। 

वहीं जब साल 2005 में उन्हें CM बनाया गया तो उनपर कई सवाल भी खड़े हुए थे क्यों कि भाजपा ने प्रदेश में दो CM को बदला था। लालकृष्ण आडवाणी को शिवराज के तौर पर ऐसा नेता मिला था जो RSS और भाजपा के एजेंडे को चुपचाप लागू कर सके।

इसका सबसे बड़ा उदाहरण ये था कि गांधी जी की हत्या के बाद से सरकारी कर्मचारियों पर आरएसएस की शाखा में जाने पर प्रतिबंध था। इसको न तो उमा भारती हटा पाईं और न 15 महीने के कार्यकाल में बाबूलाल गौड़। लेकिन शिवराज ने बिना शोरगुल के इस प्रतिबंध को पलटकर रख दिया।

इतना ही नहीं शिवराज सिंह कांग्रेस के नेता कमलनाथ, दिग्विजय और ज्योतिरादित्य केंद्र की राजनीति में व्यस्त रहे वहीं दूसरी ओर ओबीसी पृष्ठभूमि से आए शिवराज सिंह चौहान अकेले ही अपनी जमीन खूब मजबूत की। उन्होंने लड़कियों की शादी के लिए कन्यादान योजना शुरू की। जिसके बाद शिवराज सिंह ‘मामा’ के नाम से प्रदेश में प्रसिद्ध हो गए।

इसमें दो राय नहीं है कि दिग्विजय सिंह के 10 सालों के शासनकाल में मध्य प्रदेश में बिजली और सड़क की हालत बहुत ही खराब थी। लेकिन शिवराज सिंह चौहान ने बिजली और सड़क की हालत बदल दी। अगर हम इस बार के चुनाव के सर्वे को देखे तो CM पद के लिए शिवराज सिंह की लोकप्रियता बरकरार है।