मछली खाने के बाद पूरे परिवार की बिगड़ी हालत, पिता-पुत्र समेत तीन की मौत - janmanchnews.com मछली खाने के बाद पूरे परिवार की बिगड़ी हालत, पिता-पुत्र समेत तीन की मौत - janmanchnews.com

मछली खाने के बाद पूरे परिवार की बिगड़ी हालत, पिता-पुत्र समेत तीन की मौत

113

सारण के दरियापुर थाना क्षेत्र का सदवारा गांव में मंगलवार को एक ही परिवार के तीन लोगों की दर्दनाक मौत हो गयी. बताया जा रहा है कि तीनों लोगों की मौत जहरीला खाना खाने से हुइ है. सभी लोगों ने रात में घर में ही मछली बनाकर खायी थी. जिसमें गलती से थाइमेट मिले सरसों के प्रयोग की आशंका भी जतायी जा रही है.

ग्रामीणों ने बताया कि गांव के सुभाष राय सोमवार की शाम दरियापुर के गरीबा चौक बाजार से मछली लेकर आये थे और खुद ही उसे बनाया था. इसके बाद परिवार के चारों सदस्य ने खाया. भोजन के कुछ देर बाद ही सभी की तबियत बिगड़ने लगी जिसके बाद आस-पास के लोग जुटे. परिवार के दो लोग बेहोस होकर जमीन पर पड़े थे. ग्रामीणों ने आनन-फानन में निजी वाहन से उन्हें अस्पताल लाया जहां डॉक्टर ने तीन को मृत घोषित कर दिया. एक की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है.

दरियापुर थाना क्षेत्र का सदवारा गांव में मंगलवार एक ही परिवार के तीन लोगों की दर्दनाक मौत के बाद दरियापुर के सढ़वारा गांव में मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है. गांव के बच्चे, बुजुर्ग व महिलाएं एक-एक कर उस घर तक जा रहे है. लेकिन वहां पहुंचते ही सबके कदम ठहर जा रहे है. हर चेहरे पर सिर्फ एक ही सवाल है की आखिर वह कौन सी परिस्थिति होगी जिसने महज कुछ ही देर में परिवार के तीन सदस्यों ने निगल लिया. यह घटना जांच के घेरे में है. घटनास्थल से थाइमेट बरामद किया गया. गांव वालों का कहना है कि थाइमेट खेती में कीटनाशक के रूप में प्रयोग किया जाता है.

अभी यह स्पष्ट नहीं है कि थाइमेट के कारण ही मौत हुई हे. लेकिन मछली खाने के कुछ ही देर बाद सभी सदस्यों को चक्कर आने लगा. वहीं कुछ सदस्यों की तो हालत मछली खाने के कुछ मिनटो बाद ही गंभीर हो गयी. ऐसे में प्रथम दृष्टया मछली में किसी जहरीले रसायनीक पदार्थ के मिलावट की बात सामने आयी है. वहीं कई लोग तो मछली में ही जहर होने की बात कह रहे है. मौके पर पहुंची पुलिस ने मछली व थाइमेट को जब्त किया है. साथ ही पोस्टमार्टम रिपोर्ट का भी इंतजार हो रहा है. पुलिस का कहना है कि मौके पर मिले खाद्य पदार्थों की लैब में जांच करायी जायेगी. जिसके बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट हो सकेगी. वहीं परिवार के चार सदस्यों में से तीन को काल के गाल में निगल लिया है. जबकि एक की स्थिति अभी भी गंभीर बनी हुई है.

जिले में यह घटना चर्चा का विषय बनी हुई है. अभी कहीं से भी मछली के जहरीले होने की पुष्टि नहीं हुई है. कुछ लोगों का कहना है कि सभी सदस्यों ने पूरे उत्साह के साथ मछली बनाकर खाया. ऐसे में जान-बूझकर मछली को जहरीला बनाने की गुंजाइश भी कम है. गांव वालों को भी लैब व पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने का इंतजार है.




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *