BREAKING NEWS
Search
Complain

चुनाव के बाद भाजपा और कांग्रेस में शिकायती जंग तेज, जिला प्रशासन ने लगाया सोशल मीडिया के पोस्ट पर रोक

338
Rambihari pandey

रामबिहारी पांडेय

सीधी- मध्य प्रदेश के सीधी लोकसभा क्षेत्र का चुनाव तो संपन्न हो गया है. परिणाम आना शेष है, लेकिन जितनी तीखी प्रतिक्रियाएं चुनावी सभाओं के दौरान नेताओं की जुबान पर नहीं दिखी. उससे कई गुना ज्यादा विरोधी चुनाव के बाद शुरू हो गए हैं.

कोई बूथ कैपचरिंग का आरोप लगाकर शिकायत दर्ज करा रहा है, तो कोई झूठी शिकायत करने और आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगाकर शिकायत कर रहा है. शिकायतों का दौर 30 अप्रैल से शुरू हो गया है. जो थमने का नाम नहीं ले रहा उधर सोशल मीडिया में हो रही पोस्ट पर जिला प्रशासन प्रतिबंध नहीं लगाया.

जब उसका दुरुपयोग राजनैतिक दल के लोग खूब कर रहे थे. जब शिकायतों का दौर शुरू हुआ, तो जिला प्रशासन हो गई सोशल मीडिया पर बैन लगाने की याद आ गई वह 29 अप्रैल को संपन्न हुआ. चुनाव के बाद 1 मई से 27 मई तक के लिए रोक लगाई गई.

आम जनमानस यह नहीं समझ पा रहा है कि आखिर यह रोक मतदान के पूर्व और अधिसूचना जारी होने के जिम से ही क्यों लागू नहीं की गई. यदि, अधिसूचना लागू होने के दिल से यह प्रतिबंध लगाया गया होता, तो कई नेता गाली खाने से बच जाते तो कई नेता अपमानित होने से बच जाती है.

लेकिन, जिला प्रशासन अपनी चुनावी तैयारियों में व्यस्त रही. वहीं नेताओं के समर्थक विरोधियों को अपमानित करने से कुछ भी कोर कसर बाकी नहीं रखी. सबसे ज्यादा दुरुपयोग तो कथित तौर पर पोर्टल चलाने वालों ने किया था. लेकिन, उनकी तरफ जिला प्रशासन की निगाह और राजनेताओं की निगाह नहीं गई उन्हें पूरी तरह से पत्रकार मानकर उनके पोस्ट किए जा रहे मामलों को नजरअंदाज किया जाता है.

लोकसभा निर्वाचन का मतदान 29 अप्रैल को संपन्न होने के बाद अब जीत-हार की समीक्षाओं का दौर काफी तेजी से चल रहा है. चौक-चौराहों के साथ ही सोशल मीडिया में भी इसकी काफी सक्रियता है. सोशल मीडिया में जीत हार की समीक्षा के बीच इन दिनों अश्लील टिप्पणियों का दौर काफी तेजी से बढ़ा है.

भाजपा एवं कांग्रेस पार्टी के समर्थक जीत हार की समीक्षा के बीच एक दूसरे पर अभद्र टिप्पणियां कर रहे हैं, जिससे विवाद की स्थितियां निर्मित हो रही हैं. कई बार तो सोशल मीडिया में ही विवाद इतना बढ़ जाता है कि समर्थक आपसी विवाद को प्रत्याशियों तक खींच ले जाते हैं और प्रत्याशियों के बारे में अश्लील टिप्पणियां करने से बाज नहीं आते.

महिला कांग्रेस ने एसपी से की शिकायत, मामला दर्ज-

लोकसभा युवा कांग्रेस अध्यक्ष एड.रंजना मिश्रा द्वारा पुलिस अधीक्षक एवं कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर लोकसभा कांग्रेस प्रत्याशी के विरूद्ध सोशल मीडिया में अपमानजनक एवं अश्लील टिप्पणी किए जाने वाले के विरूद्ध कार्रवाई की मांग की है.

सौंपे गए ज्ञापन में बताया गया है कि वर्तमान मेें मोबाइल फेसबुक में रीती पाठक सांसद द्वारा एक आईडी पेज आई सपोर्ट रीती पाठक के नाम से बनवाई गई है, जिसमें रीती पाठक के सहयोगियों अभिनव त्रिपाठी व आर्यन गुप्ता द्वारा जानबूझकर कांग्रेस पार्टी, उसके कार्यकर्ता एवं सीधी लोकसभा प्रत्याशी अजय सिंह के विरूद्ध अपमानजनक टिप्पणियां की गईं तथा अश्लील गालियां लिखी गई हैं, साथ ही कांग्रेसियों एवं कांग्रेस प्रत्याशी अजय सिंह सहित सभी कार्यकर्ताओं को धमकी दी गई है.

शिकायत में लेख किया गया है कि उक्त कृत्य में रीती पाठक शामिल हैं, उपरोक्त कृत्य से कांग्रेस जनों को अत्यंत क्षोभ एवं दुख है तथा कांग्रेस की महिला कार्यकर्ताओं में डर है और समस्त कांग्रेस कार्यकर्ता डरे हुए हैं.

रीती पाठक एवं उनके सहयोगियों द्वारा किया गया कृत्य दंडनीय अपराध है. शिकायती आवेदन के आधार पर कोतवाली पुलिस ने आरोपी अभिनव त्रिपाठी व आर्यन गुप्ता के विरूद्ध सूचना प्रोद्योगिकी अधिनियम की धारा 67 तथा भादवि की धारा 294,506,507 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना मे लिया गया है.

कलेक्टर ने जारी किया प्रतिबंधात्मक आदेश, सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करने पर होगी कड़ी कार्रवाई-

जिला दंडाधिकारी सीधी अभिषेक सिंह ने दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अंतर्गत लोक शांति एवं कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिला सीधी की संपूर्ण राजस्व सीमा क्षेत्र में प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया है. जारी आदेशानुसार जिला सीधी की संपूर्ण राजस्व सीमा क्षेत्र में किसी भी आपत्तिजनक अथवा उद्वेलित करने वाली वीडियो, ऑडियो, फोटो, मैसेज पोस्ट करने एवं उनकी फारवर्डिंग ट्वीटर, फेसबुक, वाट्सएप इत्यादि सोशल मीडिया पर करने तथा पोस्ट पर कमेंट करने की गतिविधियों को प्रतिबंधित किया गया है.

जारी आदेशानुसार यदि कोई व्यक्ति उर्पयुक्त आदेश का उल्लंघन करेगा, तो उसके विरूद्ध भारतीय दंड संहिता के प्रावधानों के तहत अभियोजन किया जाएगा. उक्त आदेश 1 मई से 27 मई तक प्रभावशील रहेगा तथा उक्त प्रभावशील अवधि में इस आदेश का उल्लंघन धारा 188 भादवि अंतर्गत दंडनीय अपराध की श्रेणी में आयेगा.

भाजपा रीपोल तो कांग्रेस कर रही कार्रवाई की मांग-

मतदान के दिन से शुरू हुए आरोप-प्रत्यारोप और तेज हो गया है भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी जहां तीन दर्जन पोलिंग बूथों पर द्वारा चुनाव कराने की मांग निर्वाचन आयोग से की हैं.

वहीं कांग्रेस पार्टी भाजपा उम्मीदवार पर निर्वाचन आचार संहिता के उल्लंघन करने का आरोप लगाते हुए कार्रवाई करने की मांग प्रदेश निर्वाचन पदाधिकारी से किया है वहां यह दौर चल ही रहा था कि सीधी में भाजपा के पदाधिकारियों ने कलेक्टर से कोष्टा गांव के पोलिंग बूथ पर हुए नोकझोंक की शिकायत करके कार्रवाई की मांग की है.

वहीं कांग्रेस में जो पुलिस अधीक्षक से मिलकर सोशल मीडिया में उनके नेता को गाली देने की शिकायत दर्ज कराई है भाजपा की शिकायत पर कोष्टा पोलिंग बूथ में मौजूद रहे लोगों पर चुरहट थाने में अपराध पंजीबद्ध कर लिया गया है, तो कांग्रेस की शिकायत पर सिटी कोतवाली पुलिस ने सोशल मीडिया मे अश्लील पोस्ट करने के आरोप ने अपराध पंजीबद्ध किया है जांच की जा रहे हैं.