BREAKING NEWS
Search
Coronavirus symptoms

दिल्ली सरकार का एक और बड़ा एलान, सभी तरह की खेल गतिविधियों पर तत्काल रोक

150

New Delhi: कोरोना के चलते दिल्ली में आइपीएल के सातों मैच नहीं होंगे। इतना ही नहीं, जब तक कोरोना वायरस का संक्रमण है, तब तक खेल से संबंधित अन्य कोई गतिविधि भीं नहीं होगी। दिल्ली सरकार में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शुक्रवार को पत्रकार वार्ता कर बड़ी कॉन्फ्रेंस, अन्य बड़े आयोजन व खेल की गतिविधियों पर रोक लगाने का एलान किया है। अगर स्टेडियम में आइपीएल के केवल खिलाड़ी रहते हैं और तो क्या अनुमति दी जा सकती है? इस सवाल पर मनीष सिसोदिया ने कहा कि हमने लोगों के इकट्ठा होने पर रोक लगाई है और यदि आइपीएल के आयोजक कोई नए फार्मेट में आते हैं तो उस बारे में विचार किया जाएगा। हम किसी को प्रैक्टिस करने से नहीं रोक रहे हैं। बता दें कि दिल्ली में आइपीएल का पहला मैच 30 मार्च को है। दिल्ली में कुल सात मैच होने हैं।

स्कूल व सिनेमाघर के बाद अब दिल्ली के स्वीमिंग पूल भी 31 मार्च तक बंद

राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर आम आदमी पार्टी सरकार ने एक और अहम फैसले के तहत 31 मार्च तक सभी स्वीमिंग पूल बंद करने के निर्देश दिए हैं। इस पर तत्काल प्रभाव से अमल करने के लिए कहा गया है।  बता दें कि दिल्ली सरकार पहले 31 मार्च स्कूलों को बंद करने के साथ सिनेमाघर भी बंद करने का एलान कर चुकी है।

जेएनयू में 31 मार्च तक पठन-पाठन ठप

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार (Registrar, Jawaharlal Nehru University) के मुताबिक, सारे लेक्चर्स और परीक्षाएं 31 मार्च तक नहीं होंगीं। इसके साथ ही सम्मेलन, वर्कशॉप भी नहीं होंगे।

एयरपोर्ट पर टैक्सियां फैला सकती हैं संक्रमण

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने कोरोना से निपटने की तैयारी पूरी कर ली है। इस समय दिल्ली में मुख्य रूप से दो नोडल अस्पताल सफदरजंग व आरएमएल कार्य कर रहे हैं। आरएमएल अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में 16 बेड और सफदरजंग में सौ बेड का सिंगल-सिंगल रूम का प्राइवेट वार्ड तैयार रखा गया है। संक्रमण के फैलने की संभावना को देखते हुए करीब 25 अस्पतालों में स्क्रीनिंग और सैंपल लिए जाने की व्यवस्था की जा रही है। जिससे संक्रमण संभावित लोगों की तत्काल जांच की जा सके और उन्हें त्वरित रूप से सामान्य लोगों से अलग करके आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया जा सके।

25 अस्पतालों में बनेंगे आइसोलेशन वार्ड

दिल्ली सरकार ने 25 अस्पतालों में आइसोलेशन वार्ड बनाने और 250 बैड तैयार रखने के निर्देश दिए हैं। इनमें 19 सरकारी और छह निजी अस्पताल शामिल हैं। इन सभी अस्पतालों में स्क्रीनिंग और सैंपल लेने की व्यवस्था की गई है। स्क्रीनिंग और सैंपल लेने के लिए राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) कर्मचारियों को प्रशिक्षण दे रहा है। एम्स को ट्रॉमा सेंटर की नई इमरजेंसी में भी 20 बेड का आइसोलेशन वार्ड शुरू करने का निर्देश मिला है। एम्स इसके लिए तैयार है। वहीं एम्स के झज्जर स्थित राष्ट्रीय कैंसर संस्थान (एनसीआइ) में 125 बेड तैयार रखे गए हैं। इस समय स्वास्थ्य विभाग करीब 717 लोगों पर नजर रख रहा है। इनमें 291 लोग दिल्ली के रहने वाले हैं। दिल्ली में दो जांच लैब चल रही है। एक एम्स और दूसरी एनसीडीसी की लैब है।