BREAKING NEWS
Search
strike

चार सूत्री मांगों को लेकर आशा कार्यकर्ताओं ने किया धरना प्रदर्शन

491
Sarfaraz Alam

मोहम्मद सरफ़राज़ आलम

सहरसा। शनिवार को चार सूत्री मांगों को लेकर बिहार चिकित्सा एवं जन-स्वास्थ्य कर्मचारी संघ आशा कार्यकर्ताओं ने एक दिवसीय  किया धरना प्रदर्शन।

प्रदर्शन में चार सूत्री मांगों की आवाज को बुलंद करने के लिए सहरसा, सुपौल एवं मधेपुरा से सैकड़ों की तादात में आशा कार्यकर्ताओं ने दिया एक दिवसीय धरना प्रदर्शन।

प्रदर्शन को संबोधित करते हुए कुमारी ज्योति रानी संघ जिला मंत्री ने कहा कि बिहार में स्वास्थ्य सेवा को सुदृढ़ करने, संस्थागत प्रस्ताव से में बढ़ोतरी कराने, जच्चा-बच्चा मृत्यु दर टीकाकरण सहित राज्य सरकार एवं भारत सरकार के द्वारा चलाए जा रहे विभिन्न अभियानों, पखवारा के साथ-साथ बिहार सरकार के द्वारा चलाए जा रहे सामाजिक अभियान तथा शराबबंदी,दहेजबंदी, बाल विवाह, घरेलू हिंसा जैसी सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ चलाए जाने वाले सामाजिक आंदोलन में भी आशा कार्यकर्ताओं की अहम भूमिका रहती हैं।

वहीं मधेपुरा से आई आशा संघ जिला मंत्री रेणु कुमारी ने कहा कि यदि समस्या का समाधान नहीं किया गया तो बाध्य होकर के आगे आने वाले दिनों में अनिश्चितकालीन हड़ताल एवं जेल भरो अभियान चलाने के लिए बाध्य होंगे। जिसकी जवाबदेही सरकार की होगी।

क्या है विविन्न मांगे-

1. आशा फैसिलिटेटर के कोड के गड़बड़ी के कारण बकाए प्रोत्साहन राशि का अविलंब भुगतान कराया जाए तथा किए जा रहे भुगतान में प्रोत्साहन राशि में किए गए कटौती का भुगतान कराते हुए कटौती करने वाले पर दण्डात्मक  कार्रवाई किया जाए।

2. आशा फैसिलिटेटर से पूर्व की भांति आशा के रूप में संपादित किए जा रहे कार्य के बदले मिलने वाली प्रोत्साहन राशि का भुगतान जारी रखा जाए।

3. आशा फैसिलिटेटर को न्यूनतम वैधानिक मजदूरी 18000 रुपये का भुगतान किया जाए।

4. आशा कार्यकर्ताओं के बकाए प्रोत्साहन राशि का भुगतान कैंप लगाकर अविलंब किया जाए तथा इसके भुगतान के संबंध में कार्यपालक निदेशक एवं प्रधान कार्यपालक निदेशक के द्वारा निर्गत आदेशों की सिविल सर्जन ओं के द्वारा अनुपालन कराना सुनिश्चित किया जाए।