BREAKING NEWS
Search
matric copy

जब मैट्रिक परीक्षा के कॉपी मूल्यांकन में लगे शिक्षक की एक कॉपी देखते हुए रुक गई कलम, अटक गई साँसे

965
Rajnish

रजनीश

गोपालगंज। बिहार बोर्ड की मैट्रिक परीक्षा का मूल्यांकन कार्य इन दिनों चल रहा है। परीक्षा के दौरान बरती गई सख्ती का असर कॉपी के मूल्यांकन के दौरान देखने को मिल रहा है। कई छात्रों ने तो परीक्षा में पास होने के लिए अजब-गजब हथकंडे अपनाए है।

किसी ने पूरे उत्तर पुस्तिका को खाली ही छोड़ दिया है तो किसी ने उत्तर पुस्तिका के अंदर पचास या सौ रुपये का नोट रखकर परीक्षकों को प्रभावित कर पास होने का तरीका अपनाया है। वहीं कुछ परीक्षार्थी ने परीक्षकों को प्रभावित करने के लिए तमाम तरह की बाते भी लिखी हैं। परीक्षार्थियों ने कई उलटे सीधे जबाब लिखे हैं।

किसी ने आग्रह किया है कि “सर मुझे किसी तरह पास  कर दीजियेगा नही तो घर वाले मुझे निकाल देंगे।” कुछ छात्रों ने विज्ञान विषय मे महाभारत की कहानियों को लिखा है। आज छात्राओं के उत्तरपुस्तिकाओं  के मूल्यांकन के दौरान ऐसा उत्तर मिला कि परीक्षक भी स्तब्ध रह गए। “चुम्मा मांगे मास्टर मैट्रिक पास करे के” ऐसे वाक्यों को देखकर स्वाभाविक ही परीक्षक का कलम की तो खैर छोड़िए सांसे भी अटक जाएगी।

उधर मूल्यांकन के कार्य मे भी अपेक्षित तेजी नही आ पा रही है। बोर्ड के तमाम आदेश- निर्देश के बावजूद भी समयसीमा पर मूल्यांकन का कार्य पूरा हो पाएगा, इसमें सन्देह लगता है।