BREAKING NEWS
Search
murder

दहेज की बलि-वेदी पर चढ़ी एक और विवाहिता

369
Pankaj Pandey

पंकज पाण्डेय

मधुबनी। उसके कोहबर का रंग भी नहीं छूटा था और न ही जयमाला के फूल मुरझाए थे। लेकिन दहेज लोभियों के कारण दहेज की बलि-वेदी पर वह चढ़ा दी गई। ताजा मामला रुदपुर थाना क्षेत्र के देवहार गांव की है। जहाँ ससुराल वालों ने दहेज के खतिर  एक विवाहिता को मौत की नींद सुला दिया।

मिली जानकारी के अनुसार अंधराठाढ़ी थाना के देवहार गांव के रमण झा ने अपनी बेटी आरती की शादी  बैंक में पीओ के पद पर कार्यरत ब्रजेश झा से 17 फरवरी 2016 को बड़े अरमान के साथ की  ब्रजेश झा अभी जयनगर एस बी आई बैंक में पीओ के पद पर कार्यरत है। रमण झा ने अपने सामर्थ्य से भी बढ़कर शादी के समय वर पक्ष को ढ़ेर सारा नकद  दहेज, गहने-जेवरात दिया था।

मृतका आरती झा की गोद में नौ माह का एक बेटा भी है। आरती की माँ रोते हुए बताती है कि बहुत शौक से हमने अपनी बेटी की शादी रचाई थी।कोहवर का रंग भी फीका नहीं हुआ है, जयमाला का माला भी टंगा हुआ है। लेकिन हमारी बेटी को ससुराल वालों ने मार डाला। मेरी बेटी को हमेशा ससुराल वाले गाली गलौज, मारपीट किया करते थे। वह हमलोगों को कुछ नहीं बताती थी। लेकिन घटना के दिन रात को 12 बजे फोन की- माँ पापा को भेज कर बाबू को यहां से ले जाओ वरना यह लोग मार  देगें। मेरे साथ भी मारपीट कर रहे हैं।

वहीं बहन ने बताती है-साढे सोलह लाख नकद दहेज दिया था लेकिन उसके बाद भी मेरी बहन के साथ वह लोग हमेशा गाली-गलौज, मारपीट किया करते थे। मेरी दीदी को बहुत टॉर्चर किया करते थे जीजू।

सुबकते हुए ग़मगीन पिता कहते है-  “बेटी आरती  कई बार मुझसे बोली। पापा इन लोगों को चार चक्का दे दीजिए। नहीं तो, यह लोग हमें जान से मार देंगे। ससुराल वालों ने मेरी बेटी को मौत की नींद सुला दी। शव का दाह संस्कार करने के बाद हमें खबर दी। मेरी बेटी के ससुर पुलिस विभाग में है। वह अभी दरभंगा में तैनात है। उन्होंने मेरे साथ भी अभद्र व्यवहार किया। केस दर्ज करवा दिया हूँ। एक पुलिस वाले से मामला जुड़ा होने के कारण देखता हूँ मुझे कब तक  न्याय मिलती है?