BREAKING NEWS
Search
Nitish, lalu and Modi

नीतीश के सिर पर छठी बार सजा बिहार का ताज, लालू समर्थक उतरे सड़कों पर, मनाया विश्वासघात दिवस

502
Share this news...

राहुल बोले, हमें पता है कि तीन-चार महीनों से प्लानिंग चल रही थी। नीतीश को बताया अवसरवादी…

हमने भोले बाबा बन कर बड़ी पार्टी होने पर भी नीतीश को मुख्यमंत्री बनाया और यह भस्मासुर निकल गये…

Shabab Khan

शबाब ख़ान

पटना: बिहार की राजनीति में आया भूचाल नीतीश कुमार के एनडीए के समर्थन से मुख्यमंत्री बनने के बाद धीरे-धीरे शांत होने लगा है, हालांकि पक्ष विपक्ष के छोटे से बड़े नेताओं की बयानबाजी जारी है।

कल शाम उस समय बिहार की सियासी सरगर्मी अपने चरम पर पहुुंच गई जब अपने विधायकों के साथ हुयी बैठक से ही नीतीश कुमार राज्यपाल से मिलनें पहुँच गये और शाम 6:40 बजे बिहार के मुख्यमंत्री के पद से अपना इस्तीफा उन्हें सौंप दिया।

जिसे राज्यपाल ने स्वीकर कर लिया लेकिन कार्यभार फिलहाल मुख्यमंत्री के तौर पर संभाले रखनें को कहा। इसके थोड़ी देर बाद ही भाजपा विधायक दल की बैठक हुई, जिसमें भाजपा ने बिना शर्त नीतीश कुमार के नेतृत्व में बनने वाली सरकार को समर्थन देने का फैसला किया और तुरन्त ही इसकी घोषणा भी कर दी।

इसके साथ ही सुशील मोदी की सौ दिनों से तेजस्वी यादव के इस्तीफे को मुद्दा बनाकर की जाने वाली मेहनत रंग लायी। देर रात करीब नौ बजे भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय के साथ मुख्यमंत्री आवास पहुंचे और उन्होंने नीतीश को अपना समर्थन देने का भरोसा दिलाया, उनके साथ भाजपा के कुछ विधायक भी थें। इसके बाद देर रात ही नीतीश कुमार भाजपा नेताओं के साथ राजभवन पहुंचे और सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया।

243 सदस्यीय विधानसभा में जदयू के 71 और एनडीए के 56 विधायकों के साथ नयी सरकार बहुमत के आंकड़ा 122 को पार कर गई। नतीजतन राज्यपाल ने नीतीश को नयी सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया। सुबह 10 बजे नीतीश कुमार छठी बार मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के लिए राजभवन पहुंचे। उनके साथ सुशील कुमार मोदी को उपमुख्यमंत्री पद का शपथ दिलाया गया। शपथ ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भी शामिल होने की संभावना जतायी जा रही थी। हालांकि, सुरक्षा कारणों से उनका आना संभव नहीं हो सका।

उधर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीतीश कुमार के डीएनए पर सवाल उठाया था। अब यह साबित हो गया कि जदयू व भाजपा का राजनीतिक डीएनए एक की है, वह है अवसरवाद।

जदयू के वरिष्ठ नेता व पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव ने बदली हुई राजनीतिक परिस्थितियों के बीच कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की है। शरद यादव ने शाम पांच बजे अपने आवास पर एक बैठक बुलायी, जिसमें अली अनवर, वीरेंद्र कुमार व अन्य नेता शामिल रहे।

रांची में एक प्रेस कांफ्रेस में लालू प्रसाद यादव ने कहा, नीतीश कुमार आप हत्या के आरोपी हैं तो इतने दिनों तक सीएम कैसे बने रहे। लालू प्रसाद यादव ने कहा कि मैं जन-जन तक इस बात को पहुंचाऊंगा। लालू बोले नीतीश कुमार यानी बेदाग बाबू 302 के मुदालय हैं। वे कांग्रेस के सीताराम सिंह की हत्या के आरोपी हैं।

Lalu Yadav patna

RJD BOSS LALU YADAV

कोर्ट पेशी के लिए रांची पहुंचे लालू प्रसाद यादव ने आज यहां मीडिया को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार और सुशील कुमार माेदी ने मिल कर मेरे खिलाफ साजिश रची।  नीतीश कुमार फार्म हाउस में अमित शाह से मिले थें। हमने भोले बाबा बन कर बड़ी पार्टी होने पर भी नीतीश को मुख्यमंत्री बनाया और यह भस्मासुर निकल गये।

लालू नें बताया कि नीतीश कुमार मेरे पास आये थें, सीढ़ी के नीचे राबड़ी देवी के सामने बात की, कहा था- भाई साहब हमलोग अब बूढ़े हो गये, बच्चे लोग ही संभालेंगे, एक टर्म मुझे मुख्यमंत्री बनने दीजिए। मेरे मन में खोट होता तो सीएम नहीं बनाता।

बिहार में आये इस सियासी भूचाल और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के शपथ ग्रहण के बाद राजद कार्यकर्ता राज्य के अलग-अलग हिस्सों में सड़क पर उतर गए हैं। औरंगाबाद में राजद कार्यकर्ताओं ने विश्वासघात दिवस मनाते हुए शहर में प्रदर्शन किया और जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शन का नेतृत्व राजद जिला अध्यक्ष कौलेश्वर यादव, सुबोध कुमार सिंह, उदय उज्ज्वल, उप प्रमुख बादशाह यादव, प्रवक्ता डॉक्टर रमेश यादव ने किया। विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए पूरे शहर में चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बढ़ा दी गयी। नगर थाना की पुलिस शहर के चौक-चौराहे और भीड़-भाड़ वाले जगहों पर तैनात कर दी गई।

इधर राहुल गांधी ने भी नीतीश पर हमला बोल दिया, उन्होनें कहा- तीन-चार महीने से हमें पता था ये प्लानिंग चल रही है। अपने स्वार्थ के लिए व्यक्ति कुछ भी कर जाते हैं। उन्होंने आगे कहा कि बिहार की जनता ने नीतीश कुमार को भाजपा के खिलाफ वोट देकर सत्ता सौंपा था। लेकिन, अपने व्यक्तिगत स्वार्थों के लिए उन्हीं लोगों के साथ नीतीश ने फिर से हाथ मिला लिया है।

[email protected]

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंट्विटर पर फॉलो करें।

Share this news...