BREAKING NEWS
Search
Marraige

अब मॉ रूठे या बाबा मैंने तेरी हाथ पकड़ ली..

559

 

विद्यापतिनगर से राम सुखित सहनी की रिपोर्ट

समस्तीपुर(विद्यापतिनगर)।  प्रेम,हंसी,खांसी-ख़ुशी और किए मधुपान;छिपे पर भी न छिपे जाने सकल जहान।” प्यार की मादक खुशबू आप लाख छिपाना चाहें पर यह छिप नहीं सकता।इसकी मदहोश करने वाली खुशबू सर्वत्र फ़ैल कर लोगों को अहसास दिला ही देती है।

 

विद्यापतिनगर प्रखंड के गोपालपुर गांव में ऐसा ही हुआ।जब प्रेमालाप में व्यस्त एक प्रेमी युगल पर ग्रामीणों की निगाह पड़ी।बस फिर क्या था? ग्रामीणों ने दोनों को पकड़ कर जीवनसाथी बनने की सहमति ली।दोनों के हाँ कहते ही ग्रामीणों ने दोनों को परिणय-सूत्र में बांध दिया।ग्रामीणों द्वारा प्रेमी जोड़े की शादी कराये जाने का प्रस्ताव पहले तो वर पक्ष को नागवार लगा। प्रेमी युगल को घर में नहीं रखने की बात की।पर जब ग्रामीणों को इसकी जानकारी मिली तो ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सुचना पर पहुंची पुलिस नवदंपति को थाने ले आयी।

लोंगों की भीड़ थाने पर नवदंपती को देखने के लिए जुट गई।यहां एसआई अशोक कुमार सिंह ने घरवालों व ग्रामीणों की रजामंदी के उपरांत बंध-पत्र बनवा कर नवदंपति को घर जाने दिया।

विगत कुछ वर्षो से दोनों के बीच प्रेम-प्रसंग चल रहा था। गोपालपुर निवासी श्रीकृष्ण महतो के पुत्र प्रदीप कुमार (26) का प्रेम -प्रसंग अपने पड़ोसी पवन कुमार महतो की पुत्री आरती कुमारी (24) के साथ चल रहा था। पढ़ाई के दौरान दोंनों की आँखे चार हुई थी।  प्रेम प्रसंग की जानकारी लड़का लड़की के घरवालों को थी।लड़की ने जब अपनी मां से शादी की बात कही।फिर तो बात सारे गांव में फ़ैल गई।

जानकारी होने पर मुखिया संजीत सिंह, सरपंच दशरथ राय ने  पहल करते हुए इस बात की पड़ताल की। दोंनों की रजामंदी ली गई। लड़का को लड़की के घर बुलाकर परिणय सूत्र में बंधवा दिया गया।लड़का पक्ष की सूचना पर पुलिस लड़की के घर पहुंच नवदंपति को थाने ले आई। जहां ग्रामीणों ने पहुंचकर रजामंदी से दोनों का वरमाला की रस्म पूरी कर नवदंपति को आशीर्वाद दिया। दहेज मुक्त शादी व प्रेमी युगल को देखने के लिए इलाके के लोंगों की भीड़ थाना पर उमड़ पड़ी।