Samastipur PHC

डयूटी पर तैनात डॉक्टर और एएनएम के गायब रहने से प्रसूता की मौत

184

पंकज पाण्डेय,

समस्तीपुर: जिले के शिवाजीनगर प्रखंड के पीएचसी पर एक जच्चा (प्रसूता) के प्रसव के दौरान समुचित इलाज नहीं मिलने पर हुई मौत से आक्रोशित परिजनों ने जमकर बबाल काटा।

मिली जानकारी के अनुसार प्रखंड के रानीपड़ती गॉव के नरेश कमती की पत्नी सुनिता देवी (30 वर्ष)को मंगलवार को प्रसव पीड़ा शुरू हुई। परिजन उसे लाकर पीएचसी में प्रसव के लिए भर्ती करवाया। उस समय रात्रिकालीन ड्यूटी डॉक्टर ए के पंजियार की थी। डॉक्टर पंजियार ड्यूटी से गायब थे। दर्द बढ़ने पर डॉक्टर को गायब देख एएनएम की खोज शुरू हुई। एक भी एएनएम नहीं थी। महिला की बिगड़ती हालत देख उस वक़्त तैनात पीएचसी कर्मचारी ने पास की एक निजी दाई को बुलाकर आनन फानन में प्रसव करवा दिया।

सुनीता ने एक स्वस्थ बालक को जन्म दिया। अब उसे समुचित इलाज एवं दवा की जरूरत थी। जो डॉक्टर और एएनएम की अनुपस्थिति की वजह से नहीं मिल सकी।जिस कारण उसकी हालत बिगड़ने लगी। हालत बिगड़ते देख कर्मचारियों उसे दरभंगा रेफर कर दिया। परिजन उसे लेकर दरभंगा निकल पड़े।पर उसने पहुँचने से पहले रास्ते में ही दम तोड़ दिया। परिजन वापस लौटकर फिर पीएचसी पहुँचे।

जहाँ पहुंचकर परिजनों ने मृतिका के शव को पीएचसी शिवाजीनगर के गेट पर रखकर डॉक्टर व एएनएम की अनुपस्थिति को महिला के मौत का कारण बताते हुए उनको इसका जिम्मेदार मानते हुए हंगामा शुरू कर दिया। हंगामें की सूचना पर ओपी प्रभारी प्रेम कुमार भारती, एएसआई अमरेन्द्र सिंह, एवं राम कुमार सिंह पीएचसी पहुँचे।

सबने आक्रोशित परिजनों को समझाया।उसे कबीर अंत्येष्ठि एवं सामाजिक सुरक्षा सहायता की राशि दिये जाने का भरोसा दिया। तब जाकर परिजनों का गुस्सा शांत हुआ। तत्पश्चात सभी परिवार के सदस्य नवजात शिशु और महिला के शव को लेकर अपने घर की ओर चले।