BREAKING NEWS
Search
BJP

वाड्रा जमीन घोटाला: भाजपा नेता गोदारा ने विधायक सुराणा पर लगाए गंभीर आरोप

554

मयंक भारद्वाज की रिपोर्ट,

बीकानेर। रॉबर्ट वॉड्रा की जमीनों का जिन्न एक बार फिर बोतल से बाहर आ गया है। देश के सबसे चर्चित इस मामले में आज एक नया मोड़ आ गया। भाजपा नेता सुमित गोदारा के एक बयान ने पूरे राज्य में एक बार फिर सियासी महकमों में हलचल मचा दी है। गोदारा ने लूणकरणसर से निर्दलीय विधायक व भाजपा नेता माणिकचंद सुराणा पर इस मामले को लेकर गंभीर आरोप लगाए हैं।

भाजपा नेता सुमित गोदारा ने बयान जारी करते हुए बताया कि 1984 में महाजन फील्ड फायरिंग रेंज के लिए 34 गांव खाली करवाए गए थे। इन गांवों में रहने वाले लोगों को वापस पुनर्वासित करने के लिए 2007 में जमीनें अलॉट करने के लिए फार्म निकाले गए थे।

Read this also…

गोरखपुर हादसा: घटना के जिम्मेदारों पर आरोप तय, जानें किस पर क्या है आरोप

गोदारा ने आरोप लगाया कि अधिकारियों की सांठ-गांठ से माणिकचंद सुराणा के खास जयप्रकाश बागड़वा ने ओने-पौने दामों पर किसानों के नाम पर बड़ी तादाद में फार्म खरीद लिए। इन फार्म की सहायता अधिकारियों की मिलीभगती के चलते बागड़वा ने गजनेर हाईवे पर 1400 से 1500 बीघा जमीन सेटल करवाई। जिन विस्थापितों के लिए जमीनें अलॉट होनी थी वे बेचारे तो खाली हाथ ही रह गए। इस पूरे मामले को लेकर 2015 में जयप्रकाश बागड़वा सहित अन्य पर 18 एफआईआर भी दर्ज हो चुकी है।

Read this also…

क्रिकेट मैच खेलने के दौरान ही हुआ था, इस क्रिकेटर की पत्नी का यौन शोषण

गोदारा ने बताया कि इस सेटल हुई जमीन को ही बाद में रॉबर्ट वाड्रा ने खरीद की थी। ऐसे में गोदारा ने आरोप लगाया है कि जयप्रकाश बागड़वा व अन्य तो इस जमीन घोटाले में मात्र मोहरे हैं वास्तविकता में लूणकरणसर विधायक माणिकचंद सुराणा ही मुख्य सूत्रधार थे।

robert vadra

Janmanchnews.com

हालांकि इस मामले में विधायक सुराणा ने बयान जारी कर इन आरोपों को बेबुनियाद और तथ्यरहित बताया है। हालांकि उन्होंने इस मामले में सीबीआई द्वारा जांच में देरी करने की बात को सही माना है लेकिन साथ में उनका यह भी कहना है कि इस मामले की सीबीआई जांच करवाना अच्छी पहल है और जो भी तथ्य हैं, वे सबके सामने जरूर आएंगे।