hardik patel

भाजपा सरकार ने मेरी हिम्मत को देखा नहीं हैं- हार्दिक

111

गुजरात। किसानों की कर्ज माफी की मांग को लेकर पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के नेता हार्दिक पटेल मोदी सरकार के खिलाफ आन्दोलन लगातार जारी हैं। बीते दिनों अपने अनशन पर बैठे हार्दिक पटेल ने जल त्याग करने का फैसला लिया था। जिसके वजह से उनके वजन में 20 किलो की कमी भी आ गयी हैं।

हार्दिक के 11 दिन के उपवास पर मंगलवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा, भाजपा के वरिष्ठ सांसद शत्रुघ्न सिन्हा एवं महाराष्ट्र गोंदिया के भाजपा के पूर्व सांसद नाना पटोले एवं जनता दल यूनाइटेड के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव अखिलेश कटियार अहमदाबाद उनके निवास पर भूख हड़ताल में शामिल हुए।

jaswant singh

Janmanchnews.com

अपने उपवास आंदोलन के दसवें दिन हार्दिक ने भगवान कृष्ण के जन् ममहोत्सव के पवित्र अवसर पर उपवास छावनी में जन्माष्टमी महोत्सव मनाया।

मंगलवार को हार्दिक ने अपने अनशन का 11 दिन पूरा किया। हार्दिक के स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आ रही हैं। अनशन की वजह से उनका वजन 78 किलो से घटकर 58 रह गया हैं। इसके आलावा उनकी  बिगड़ती तबियत को देखते हुए सरकार ने उनके घर के बाहर आईसीयू व्हीकल रखा हैं। यहां डॉक्टरों की एक टीम 24 घंटे तैनात हैं।

वहीं हार्दिक के उपवास आंदोलन को लेकर सरकार से तरफ से प्रतिक्रिया देते हुए उर्जा मंत्री सौरव पटेल ने कहा कि, उनके स्वास्थ्य को लेकर सरकार चिंतित हैं। साथ ही उर्जा मंत्री सौरव पटेल ने कहा कि ‘हार्दिक डॉक्टर की सलाह लें और उनकी बात मानें।’

साथ ही उन्होंने अपने ट्वीट में  लिखा कि गुजरात की भाजपा सरकार ने मेरी हिम्मत को देखा नहीं है। मैं जितना दिन भूखा रहूंगा इतनी हिम्मत मेरी बढ़ेगी, मैं इतना भी कमजोर नहीं हूं कि जनता को उसका अधिकार दिलाने से पहले मैं मर जाऊं। अधिकारों की लड़ाई लड़ता हूँ भगवान मुझे शक्ति दे रहा हैं। जनता का प्यार मिल रहा हैं।

बता दें, किसानों की कर्ज माफी की मांग को लेकर पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के नेता हार्दिक पटेल पिछले 25 अगस्त से ही अपने आवास पर भूख हड़ताल पर बैठे हैं।