BJP

उत्तरप्रदेश: भाजपा का कानपुर में सिकंदरा विधानसभा सीट पर कब्जा बरकरार

130

22 जुलाई को भाजपा विधायक मथुरा पाल की मौत के बाद उपचुनाव जरूरी प्रक्रिया थी…

Shabab Khan

शबाब ख़ान (वरिष्ठ पत्रकार)

 

 

 

 

 

कानपुर: भारतीय जनता पार्टी ने रविवार को कानपुर देहात जिले की सिकंदरा विधानसभा सीट के लिए हुआ चुनाव जीता लिया है। भाजपा उम्मीदवार अजीत पाल सिंह ने समाजवादी पार्टी के निकटतम प्रतिद्वंद्वी सीमा सचान को लगभग 11,000 मतों से हराया। 2017 के विधानसभा चुनावों में, पार्टी ने इसी सीट को 38,103 मतों के अंतर से जीता था।

22 जुलाई को भाजपा विधायक मथुरा पाल (72) की मौत के बाद यह उपचुनाव जरूरी हुआ था। सीट के लिए मतदान 21 दिसंबर को हुआ था। पांच निर्दल उम्मीदवारों सहित कुल 11 उम्मीदवार मैदान में थे। भाजपा ने पाल के बेटे अजीतपाल सिंह को मैदान में उतारा था, जिनकी टक्कर मुख्य रूप से समाजवादी पार्टी की सीमा सचान और कांग्रेस पार्टी के प्रभाकर पांडे से थी।

जिले में पहली बार, चुनाव आयोग ने इन उप-चुनावों में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के साथ मतदाता सत्यापनपत्र पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) का इस्तेमाल किया था। लगभग 3.21 लाख मतदाताओं में से 53 प्रतिशत लोगों ने वोट दिया था। सिकंदरा निर्वाचन क्षेत्र कानपुर देहेत जिले में स्थित है, जो 21 ठाकुर जाति के ग्रामीणों की 1981 में फूलनदेवी द्वारा बेहमई में की गई सामूहिक हत्याओं के बाद कुख्यात हो गया था। कथित तौर पर फूलन देवी और उनके गिरोह ने बलात्कार का बदला लेने का आरोप लगाया था।

1991 में पहली बार मथुरा पाल जनता दल के उम्मीदवार के रूप में कानपुर देहात जिले के सरंखेड़ा विधानसभा क्षेत्र से और दूसरी बार भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार के रूप में 1996 में निर्वाचित हुए थे। 2017 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में, पाल ने बहुजन समाज पार्टी के अपने करीबी प्रतिद्वंदी महेंद्र कटियार को 38,103 मतों के अंतर से हराया था।

इस उप चुनाव में हालांकि कुल 11 उम्मीदवार मैदान में थे, लेकिन टक्कर भाजपा, सपा और कांग्रेस के बीच थी। जीत की घोषणा के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने पटाखे फोड़कर और पार्टी के जिला कार्यालय के बाहर नाचकर जीत का जश्न मनाया, जबकि समाजवादी पार्टी के कार्यालय वीरान दिखा।

जीत के बाद, भाजपा नेताओं ने कहा, सिकंदरा के उपचुनाव से पता चलता है कि “मोदी और योगी लहर” चल रही है। कानपुर शहर के भाजपा अध्यक्ष सुरेंद्र मठानी ने पार्टी में विश्वास बहाल करने के लिए मतदाताओं को धन्यवाद दिया।

“प्रधान मंत्री मोदी और सीएम योगी के प्रदर्शन ने सिकंदरा सीट को बरकरार रखने में बीजेपी की मदद की है। सिकंदरा के लोगों से उनके विश्वास के लिए भाजपा बहुत-बहुत आभार व्यक्त करती है,” मठानी ने कहा।

विजेता उम्मीदवार अजीत पाल ने क्षेत्र के विकास के लिए काम करने का वादा किया, “मैं सिकंदरा के लोगों को उनके समर्थन के लिए धन्यवाद करता हूं। मैं विधानसभा सीट के समग्र विकास के लिए कड़ी मेहनत करूंगा।”

इस बीच, माटी के मतगणना स्थल पर सपा उम्मीदवार सीमा सचान ने विरोध-प्रदर्शन किया, जिससे वहॉ हंगामे की स्थिति पैदा हो गई। सचान नें आरोप लगाया कि एक ईवीएम की सील टूटी पाई गयी है, उन्होने गणना का बहिष्कार कर दिया। यह मुद्दा गिनती के 11 वें दौर के पूरा होने के बाद उठाया गया, सचान के आरोपो को कांग्रेस और निर्दल उम्मीदवारों नें सही ठहराया है।