BREAKING NEWS
Search
electricty board

प्रदेश में जर्जर विधुत की स्थिति देख भाजपा कार्यकर्ताओं का फूटा गुस्सा

553

आशीष सिंह चौहान की रिपोर्ट-

उन्नाव। विधुत विभाग के अधिकारियों की मनमानी के चलते विधुत आपूर्ति 18 घंटे के शासनादेश की धज्जियां उडा कर घंटों में विधुत आपूर्ति मिलने पर उपभोक्ताओं का गुस्सा फूट पड़ा। संविदा कर्मियों के सहारे लखनऊ में बैठ कर ड्यूटी पूरी करने वाले अधिकारियों के खिलाफ भाजपा कार्यकर्ता आक्रोशित होकर अनिश्चित कालीन धरने पर बैठ गए।

प्रदेश युवा मोर्चा के सदस्य हरीश महराज ने मांगे पूरी न होने तक भूख हड़ताल की घोषणा कर दी है और प्रस्तावित 132 केवीए पावर हाउस बनने में कमीशन खोरी का आरोप लगाकर विधुत महाप्रबंधक की पोल खोल दी है। हसनगंज तहसील मुख्यालय के बगल में पावर हाउस कार्यालय का घेराव कर भाजपा कार्यकर्ता शासन की 18 घंटे विधुत आपूर्ति की घोषणा को विभागीय अधिकारियों की मनमानी के चलते क्षुब्ध होकर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आधा सैकड़ा कार्यकर्ता धरने पर बैठ गए।

विधुत विभाग के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते रहे। लेकिन कार्यालय में जेई व एस डी ओ से लेकर अधिशाषी अभियंता मौन होकर ठेकेदारों के साथ कमीशन की डील करते रहे। जबकि बाहर भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ सैकड़ों उपभोक्ता बिजली की आये दिन फाल्ट व आवाजाही से परेशान होकर धरने पर बैठ नारेबाजी करते रहे। लेकिन कानों में जूं तक नहीं रेंगा।

सोमवार को भाजपा कार्यकर्ता आक्रोशित होकर शासन के द्वारा 18 घंटे आपूर्ति की घोषणा के तहत विभागीय अधिकारियों की मनमानी के चलते दो तीन घंटे मुश्किल से का आरोप लगाया। हसनगंज आम फल पट्टी में किसानों को पानी नहीं मिल रहा है बाग सूख रहे हैं। समय से बिजली न मिलने से छोटे छोटे उद्योगों बंद होने की कगार पर है। उपभोक्ता बिना बिजली के हजारों रुपए का बिल चुकाने के लिए मजबूर है। धरने पर बैठे उपभोक्ताओं ने जेई ए ई द्वारा सी यू जी नंबर मोबाइल नम्बर न उठाने का आरोप लगाया।

प्रदेश युवा मोर्चा के सदस्य हरीश महराज, जिला मंत्री व सांसद प्रतिनिधि नृपेंद्र सिंह, भाजपा नेता व समाजसेवी मनोज कुमार सिंह, पूर्व मंडल अध्यक्ष आशीष सिंह आदि पाटीॅ कार्यकर्ताओं ने विभागीय अधिकारियों पर आरोप लगाया कि 2019 लोकसभा चुनाव से पहले सरकार की छवि खराब करने में जुटे हैं। यह मनमानी चलने नहीं दूगा अल्टीमेटम दिया है। सरकार की मंशा के अनुरूप बिजली नहीं मिली तो अनिश्चित कालीन धरना चलता रहेगा।

वहीं पार्टी के युवा नेता हरीश महराज ने 132 के वी ए का पावर हाउस हसनगंज तहसील मुख्यालय पर बनाने की मांग दोहराई है। मांग न पूरी होने पर भूख हड़ताल की घोषणा की है। क्षेत्र के उपभोक्ताओं ने नयी सराय, मौलाबाकीपुर, धौरा, हसनापुर आदि छह फीडरों में चार फीडरों की विधुत व्यवस्था ध्वस्त होने का आरोप लगाया है। वहीं संविदा पर काम कर रहे बहादुर व मुकेश ने पीड़ा सुनाई कि केवल तीन हजार रूपये प्रति महीने मिलता है। जान जोखिम में डाल कर 24 घंटे काम करना पड़ता है।

कार्यकर्ताओं ने 132 के वी ए प्रस्तावित पावर हाउस का जल्द निर्माण कराने की मांग की है। वहीं अधिशाषी अभियंता ए के चौधरी ने इस पर बताया कि प्रस्तावित पावर हाउस निर्माण की मंजूरी नहीं मिली है। शासन स्तर पर मामला है। जिस पर कार्यकर्ता एम डी व ठेकेदार को मौके पर बुलाने के लिए अडे हुए हैं।

मालूम हो कि तहसील मुख्यालय पर पांच किलोमीटर दूरी पर ट्रांस मिशन लाइन बनायी जा सकती है और पावर हाउस पर मुफ्त की जमीन उपलब्ध है। लेकिन शासन स्तर पर आला अधिकारी कमीशन के चक्कर में 30 हजार उपभोक्ताओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। अभी सफीपुर तहसील परियर के खोखा पुर 25 किलोमीटर दूरी से विधुत सप्लाई से हसनगंज के चार फीडर राम भरोसे चल रहे हैं।

धरने पर हरीश महाराज, मनोज सिंह, नृपेंद्र सिंह, राकेश कृष्ण साहू, साहू पूर्व मंडल अध्यक्ष आशीष सिंह विनोद सिंह, अजय शुक्ला, ऋषि सिंह अजय प्रधान नयी सराय जय सिंह हसनापुर ,अनिल सिंह रानी खेड़ा खालसा, दिलीप राजपूत, लालजी, नवीन सिंह, राहुल पंडित,राघवेंद्र सिंह सहित सैकड़ों उपभोक्ता मौजूद रहे।